Achche Din Aane Wale Hain

ufo,paranormal,supernatural,pyramid,religion and independence movement of india,bermuda,area 51,jatingha

53 Posts

294 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1814 postid : 153

नाव वालो गंगा जी तो अपनी हैं,

Posted On: 21 Sep, 2010 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक प्रसिद्य शायर/कवि का वर्तमान समाज के विषय में “कटाक्ष” (शब्द या भाषा स्मृति के आधार पर प्रस्तुत है,मूल से भिन्न हो सकती है)

नाव वालो गंगा जी तो अपनी हैं,

                     नाव में किसने छेड़ किया है,सच बोलो

                                                       घर के अन्दर झूठों की मण्डली है,

                                                                                  दरवाज़े पर बोर्ड लगा है,सच बोलो !

                                                                                                             गुलदस्ते पर यक्जैती लिख रक्खा है,

                                                                                                                             गुलदस्ते के अन्दर किया रक्खा है,सच बोलो !

======================================================================================================

         गरीबी और भुखमरी पर एक ” वास्तविकता की अभिव्यक्ति”

               भूख से मरा था,सड़क पे पड़ा था,

                                       शर्ट के बटन खोल के जो देखा

                                                                तो सीने पे ये लिखा था !

                                                                                  रहने को घर नहीं है,

                                                                                                          कहने के सारा हिन्दुस्तान हमारा था !

==================================================================================================

                                 कुल के कपटी,कुमंडली कमाल के,

                                                           काम के न काज के, दुश्मन अनाज के

                                                                                      क्रूर,कुरूप,कामचोर कर्महीन, घर के न घाट के

                                                                                                                ,देश के न जात के धरती के बोझ,भार समाज के

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Izal के द्वारा
February 3, 2014

You can always tell an expert! Thanks for cotgniburint.

mansoor के द्वारा
September 21, 2010

 कभी कभी यूं भी अपने दिल को बहलाया है हमने  जिन बातों को खुद नहीं समझे औरों को समझाया है

mansoor के द्वारा
September 21, 2010

 कभी कभी यूं भी हमने अपने दिल को बहलाया है  जिन बातों को खुद नहीं समझे औरों को समझाया है।


topic of the week



latest from jagran