Achche Din Aane Wale Hain

ufo,paranormal,supernatural,pyramid,religion and independence movement of india,bermuda,area 51,jatingha

53 Posts

294 comments

malik saima


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

Page 20 of 27« First...10«1819202122»...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

****************** THIS IS TRUTH… According to Bhavishya purana Mahamada (Incarnation of Tripurasura the demon) = Dharmadushika (Polluter of righteousness) Religion founded by Mahamada = Paisachyadharama (demoniac religion) ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Bhavishya purana (futuristic mythology)(Circa 3000 B.C) [From the third part of the Pratisarga Parva.] ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Shri Suta Gosvami said: In the dynasty of king Shalivahana, there were ten kings who went to the heavenly planets after ruling for over 500 years. Then gradually the morality declined on the earth. At that time Bhojaraja was the tenth of the kings on the earth. When he saw that the moral law of conduct was declining he went to conquer all the directions of his country with ten-thousand soldiers commanded by Kalidasa. He crossed the river Sindhu and conquered over the gandharas, mlecchas, shakas, kasmiris, naravas and sathas. He punished them and collected a large ammount of wealth. Then the king went along with Mahamada (Muhammad), the preceptor of mleccha-dharma, and his followers to the great god, Lord Shiva, situated in the desert. He bathed Lord Shiva with Ganges water and worshipped him in his mind with pancagavya (milk, ghee, yoghurt, cow dung, and cow urine) and sandalwood paste, etc. After he offered some prayers and pleased him. Suta Goswami said: After hearing the king’s prayers, Lord Shiva said: O king Bhojaraja, you should go to the place called Mahakakshvara, that land is called Vahika and now is being contaminated by the mlecchas. In that terrible country there no longer exists dharma. There was a mystic demon named Tripura(Tripurasura), whom I have already burnt to ashes, he has come again by the order of Bali. He has no origin but he achieved a benediction from me. His name is Mahamada(Muhammad) and his deeds are like that of a ghost. Therefore, O king, you should not go to this land of the evil ghost. By my mercy your intelligence will be purified. Hearing this the king came back to his country and Mahamada(Muhammad) came with them to the bank of the river Sindhu. He was expert in expanding illusion, so he said to the king very pleasingly: O great king, your god has become my servant. Just see, as he eats my remnants, so I will show you. The king became surprised when he saw this just before them. Then in anger Kalidasa rebuked Mahamada(Muhammad) “O rascal, you have created an illusion to bewilder the king, I will kill you, you are the lowest…” That city is known as their site of pilgrimage, a place which was Madina or free from intoxication. Having a form of a ghost (Bhuta), the expert illusionist Mahamada(Muhammad) appeared at night in front of king Bhojaraja and said: O king, your religion is of course known as the best religion among all. Still I am going to establish a terrible and demoniac religion by the order of the Lord . The symptoms of my followers will be that they first of all will cut their genitals, have no shikha, but having beard, be wicked, make noise loudly and eat everything. They should eat animals without performing any rituals. This is my opinion. They will perform purificatory act with the musala or a pestle as you purify your things with kusha. Therefore, they will be known as musalman, the corrupters of religion. Thus the demoniac religion will be founded by me. After having heard all this the king came back to his palace and that ghost(Muhammad) went back to his place. The intelligent king, Bhojaraj established the language of Sanskrit in three varnas – the brahmanas, kshatriyas and vaisyas – and for the shudras he established prakrita-bhasha, the ordinary language spoken by common men. After ruling his kingdom for 50 years, he went to the heavenly planet. The moral laws established by him were honored even by the demigods. The arya-varta, the pious land is situated between Vindhyacala and Himacala or the mountains known as Vindhya and Himalaya. The Aryans reside there, but varna-sankaras reside on the lower part of Vindhya. The musalman people were kept on the other side of the river Sindhu. On the island of Barbara, Tusha and many others also the followers of Isamsiha were also situated as they were managed by a king or demigods. ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Note This Lord Shiva said: O king Bhojaraja, you should go to the place called Mahakakshvara, that land is called Vahika and now is being contaminated by the mlecchas. In that terrible country there no longer exists dharma. There was a mystic demon named Tripura(Tripurasur), whom I have already burnt to ashes, he has come again by the order of Bali. He has no origin but he achieved a benediction from me. His name is Mahamada(Muhammad) and his deeds are like that of a ghost. According to Bhavishya Purana Muhammad was the rebirth of Tripurasura the Demon. Tripurasura was killed by Shiva in his(Tripurasura’s) past लाइफ ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Tripurasura’s Past life (Mythology[not from bhavishya purana]) Tripurasur was the son of Sage Gritsamad. One day the sage sneezed and from this was created a young boy who the Sage brought up as his own son. The sage taught the boy the Ganana Twam, Ganesh Mantra. Equipped with this mantra the boy meditated intensely on Lord Ganesh who ultimately blessed him. He was given three pura-s of gold silver and iron. Since he was the owner of these three pura-s he was given the name Tripur. Ganesh also bestowed on Tripur to be the most powerful, who none but Lord Shiva himself could destroy and after being destroyed by Lord Shiva he would attain mukti-salvation. This boon made Tripur proud and he brought havoc in the entire world. He conquered the Nether world and then proceeded to takeover Heaven. He defeated Indra the king of heaven. His aggression made Lord Brahma hide in a lotus and Lord Vishnu in the Shirsagar. He soon also took over Lord Shiva’s Kailash Parvat and thus became the King of all the three worlds. The gods wondered on how to vanquish Tripurasur. Lord Narada told them that, since he had been granted a boon by Lord Ganesh himself it would be very difficult to vanquish him. He advised them to meditate on Lord Ganesh. Pleased Lord Ganesh decided to help the Gods. Disguised as brahmin he visited Tripurasur and told him that he was a very enlightened Brahmin and could make for him three flying planes. Riding these he woud be able to go anywhere he wished within minutes. The planes could only be destroyed by Shiva.In return Lord Ganesh asked him to get him the statue of Chintamani which was at the Kailash Mountain. Lord Shiva refused to give the statue to Tripurasur’s messenger. The angry Tripurasur himself went to get the statue. A fierce battle started between him and Lord Shiva. He destroyed everything that belonged to the Lord Shiva who too retired to the Girikandar. Lord Shiva too realized that he was unable to destroy Tripurasur because he had not paid his respects to Lord Ganesh. He recited the Shadaakshar Mantra to invoke Ganesh. On doing so from his mouth emerged Gajanan to grant Shiva a boon. Shiva continued his invocation of Ganesh who ultimately directed him on how Tripurasur could be killed. Lord Shiva was asked to recite the Sahastranam and then direct an arrow at the three pura-s of Tripurasur. Lord Shiva followed these instructions and finally vanquished Tripurasur. The place where Lord Shiva invoked Lord Ganesh he also created a temple for him. The town surrounding this temple was called Manipur. The village Ranjangaon is considered to be the place where Lord Shiva himself sought the blessings of Ganesh and ultimately destroyed Tripurasur. ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Mlechha (meaning) (from Sanskrit dictionary) म्लेच्छ mleccha 1 A barbarian,a non Aryan ( One not speaking the Sanskrit Language or not conform in to Hindu or Aryan institutions),a foreigner in general 2 An Outcast, a very low man, Bodhayana thus defines the word: gomAmsakhAdako yastu viruddhaM bahubhAshhate | sarvAchAravihInashcha mlechchha ityabhidhiiyate | He who eats cow’s meat, and speaks a lot against shastras and he, who is also devoid of all forms of spiritual practice, is called a mlechha. 3 A sinner, A wicked person, A savage or barbarian race etc… ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Paisachya (meaning) (from Sanskrit dictionary) Paisachya Demonical, Infernal ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Tripurasura ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Asura (meaning) (from Sanskrit dictionary) Asura असुर 1 An evil spirit,demon 2 A general name for the enemies of Gods, ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Your reply always welcome (except zakir jokes)

के द्वारा:

****************** THIS IS TRUTH... According to Bhavishya purana Mahamada (Incarnation of Tripurasura the demon) = Dharmadushika (Polluter of righteousness) Religion founded by Mahamada = Paisachyadharama (demoniac religion) ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Shri Suta Gosvami said: In the dynasty of king Shalivahana, there were ten kings who went to the heavenly planets after ruling for over 500 years. Then gradually the morality declined on the earth. At that time Bhojaraja was the tenth of the kings on the earth. When he saw that the moral law of conduct was declining he went to conquer all the directions of his country with ten-thousand soldiers commanded by Kalidasa. He crossed the river Sindhu and conquered over the gandharas, mlecchas, shakas, kasmiris, naravas and sathas. He punished them and collected a large ammount of wealth. Then the king went along with Mahamada (Muhammad), the preceptor of mleccha-dharma, and his followers to the great god, Lord Shiva, situated in the desert. He bathed Lord Shiva with Ganges water and worshipped him in his mind with pancagavya (milk, ghee, yoghurt, cow dung, and cow urine) and sandalwood paste, etc. After he offered some prayers and pleased him. Suta Goswami said: After hearing the king’s prayers, Lord Shiva said: O king Bhojaraja, you should go to the place called Mahakakshvara, that land is called Vahika and now is being contaminated by the mlecchas. In that terrible country there no longer exists dharma. There was a mystic demon named Tripura(Tripurasura), whom I have already burnt to ashes, he has come again by the order of Bali. He has no origin but he achieved a benediction from me. His name is Mahamada(Muhammad) and his deeds are like that of a ghost. Therefore, O king, you should not go to this land of the evil ghost. By my mercy your intelligence will be purified. Hearing this the king came back to his country and Mahamada(Muhammad) came with them to the bank of the river Sindhu. He was expert in expanding illusion, so he said to the king very pleasingly: O great king, your god has become my servant. Just see, as he eats my remnants, so I will show you. The king became surprised when he saw this just before them. Then in anger Kalidasa rebuked Mahamada(Muhammad) “O rascal, you have created an illusion to bewilder the king, I will kill you, you are the lowest…” That city is known as their site of pilgrimage, a place which was Madina or free from intoxication. Having a form of a ghost (Bhuta), the expert illusionist Mahamada(Muhammad) appeared at night in front of king Bhojaraja and said: O king, your religion is of course known as the best religion among all. Still I am going to establish a terrible and demoniac religion by the order of the Lord . The symptoms of my followers will be that they first of all will cut their genitals, have no shikha, but having beard, be wicked, make noise loudly and eat everything. They should eat animals without performing any rituals. This is my opinion. They will perform purificatory act with the musala or a pestle as you purify your things with kusha. Therefore, they will be known as musalman, the corrupters of religion. Thus the demoniac religion will be founded by me. After having heard all this the king came back to his palace and that ghost(Muhammad) went back to his place. The intelligent king, Bhojaraj established the language of Sanskrit in three varnas – the brahmanas, kshatriyas and vaisyas – and for the shudras he established prakrita-bhasha, the ordinary language spoken by common men. After ruling his kingdom for 50 years, he went to the heavenly planet. The moral laws established by him were honored even by the demigods. The arya-varta, the pious land is situated between Vindhyacala and Himacala or the mountains known as Vindhya and Himalaya. The Aryans reside there, but varna-sankaras reside on the lower part of Vindhya. The musalman people were kept on the other side of the river Sindhu. On the island of Barbara, Tusha and many others also the followers of Isamsiha were also situated as they were managed by a king or demigods. ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Note This Lord Shiva said: O king Bhojaraja, you should go to the place called Mahakakshvara, that land is called Vahika and now is being contaminated by the mlecchas. In that terrible country there no longer exists dharma. There was a mystic demon named Tripura(Tripurasur), whom I have already burnt to ashes, he has come again by the order of Bali. He has no origin but he achieved a benediction from me. His name is Mahamada(Muhammad) and his deeds are like that of a ghost. According to Bhavishya Purana Muhammad was the rebirth of Tripurasura the Demon. Tripurasura was killed by Shiva in his(Tripurasura’s) past लाइफ ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Tripurasura’s Past life (Mythology[not from bhavishya purana]) Tripurasur was the son of Sage Gritsamad. One day the sage sneezed and from this was created a young boy who the Sage brought up as his own son. The sage taught the boy the Ganana Twam, Ganesh Mantra. Equipped with this mantra the boy meditated intensely on Lord Ganesh who ultimately blessed him. He was given three pura-s of gold silver and iron. Since he was the owner of these three pura-s he was given the name Tripur. Ganesh also bestowed on Tripur to be the most powerful, who none but Lord Shiva himself could destroy and after being destroyed by Lord Shiva he would attain mukti-salvation. This boon made Tripur proud and he brought havoc in the entire world. He conquered the Nether world and then proceeded to takeover Heaven. He defeated Indra the king of heaven. His aggression made Lord Brahma hide in a lotus and Lord Vishnu in the Shirsagar. He soon also took over Lord Shiva’s Kailash Parvat and thus became the King of all the three worlds. The gods wondered on how to vanquish Tripurasur. Lord Narada told them that, since he had been granted a boon by Lord Ganesh himself it would be very difficult to vanquish him. He advised them to meditate on Lord Ganesh. Pleased Lord Ganesh decided to help the Gods. Disguised as brahmin he visited Tripurasur and told him that he was a very enlightened Brahmin and could make for him three flying planes. Riding these he woud be able to go anywhere he wished within minutes. The planes could only be destroyed by Shiva.In return Lord Ganesh asked him to get him the statue of Chintamani which was at the Kailash Mountain. Lord Shiva refused to give the statue to Tripurasur’s messenger. The angry Tripurasur himself went to get the statue. A fierce battle started between him and Lord Shiva. He destroyed everything that belonged to the Lord Shiva who too retired to the Girikandar. Lord Shiva too realized that he was unable to destroy Tripurasur because he had not paid his respects to Lord Ganesh. He recited the Shadaakshar Mantra to invoke Ganesh. On doing so from his mouth emerged Gajanan to grant Shiva a boon. Shiva continued his invocation of Ganesh who ultimately directed him on how Tripurasur could be killed. Lord Shiva was asked to recite the Sahastranam and then direct an arrow at the three pura-s of Tripurasur. Lord Shiva followed these instructions and finally vanquished Tripurasur. The place where Lord Shiva invoked Lord Ganesh he also created a temple for him. The town surrounding this temple was called Manipur. The village Ranjangaon is considered to be the place where Lord Shiva himself sought the blessings of Ganesh and ultimately destroyed Tripurasur. ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Mlechha (meaning) (from Sanskrit dictionary) म्लेच्छ mleccha 1 A barbarian,a non Aryan ( One not speaking the Sanskrit Language or not conform in to Hindu or Aryan institutions),a foreigner in general 2 An Outcast, a very low man, Bodhayana thus defines the word: gomAmsakhAdako yastu viruddhaM bahubhAshhate | sarvAchAravihInashcha mlechchha ityabhidhiiyate | He who eats cow's meat, and speaks a lot against shastras and he, who is also devoid of all forms of spiritual practice, is called a mlechha. 3 A sinner, A wicked person, A savage or barbarian race etc... ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Paisachya (meaning) (from Sanskrit dictionary) Paisachya Demonical, Infernal ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Tripurasura ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Asura (meaning) (from Sanskrit dictionary) Asura असुर 1 An evil spirit,demon 2 A general name for the enemies of Gods, ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Your reply always welcome (except zakir jokes)

के द्वारा:

According to Bhavishya purana Mahamada (Incarnation of Tripurasura the demon) = Dharmadushika (Polluter of righteousness) Religion founded by Mahamada = Paisachyadharama (demoniac religion) ----- Bhavishya purana (futuristic mythology)(Circa 3000 B.C) [From the third part of the Pratisarga Parva.] ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Shri Suta Gosvami said: In the dynasty of king Shalivahana, there were ten kings who went to the heavenly planets after ruling for over 500 years. Then gradually the morality declined on the earth. At that time Bhojaraja was the tenth of the kings on the earth. When he saw that the moral law of conduct was declining he went to conquer all the directions of his country with ten-thousand soldiers commanded by Kalidasa. He crossed the river Sindhu and conquered over the gandharas, mlecchas, shakas, kasmiris, naravas and sathas. He punished them and collected a large ammount of wealth. Then the king went along with Mahamada (Muhammad), the preceptor of mleccha-dharma, and his followers to the great god, Lord Shiva, situated in the desert. He bathed Lord Shiva with Ganges water and worshipped him in his mind with pancagavya (milk, ghee, yoghurt, cow dung, and cow urine) and sandalwood paste, etc. After he offered some prayers and pleased him. Suta Goswami said: After hearing the king’s prayers, Lord Shiva said: O king Bhojaraja, you should go to the place called Mahakakshvara, that land is called Vahika and now is being contaminated by the mlecchas. In that terrible country there no longer exists dharma. There was a mystic demon named Tripura(Tripurasura), whom I have already burnt to ashes, he has come again by the order of Bali. He has no origin but he achieved a benediction from me. His name is Mahamada(Muhammad) and his deeds are like that of a ghost. Therefore, O king, you should not go to this land of the evil ghost. By my mercy your intelligence will be purified. Hearing this the king came back to his country and Mahamada(Muhammad) came with them to the bank of the river Sindhu. He was expert in expanding illusion, so he said to the king very pleasingly: O great king, your god has become my servant. Just see, as he eats my remnants, so I will show you. The king became surprised when he saw this just before them. Then in anger Kalidasa rebuked Mahamada(Muhammad) “O rascal, you have created an illusion to bewilder the king, I will kill you, you are the lowest..." That city is known as their site of pilgrimage, a place which was Madina or free from intoxication. Having a form of a ghost (Bhuta), the expert illusionist Mahamada(Muhammad) appeared at night in front of king Bhojaraja and said: O king, your religion is of course known as the best religion among all. Still I am going to establish a terrible and demoniac religion by the order of the Lord . The symptoms of my followers will be that they first of all will cut their genitals, have no shikha, but having beard, be wicked, make noise loudly and eat everything. They should eat animals without performing any rituals. This is my opinion. They will perform purificatory act with the musala or a pestle as you purify your things with kusha. Therefore, they will be known as musalman, the corrupters of religion. Thus the demoniac religion will be founded by me. After having heard all this the king came back to his palace and that ghost(Muhammad) went back to his place. The intelligent king, Bhojaraj established the language of Sanskrit in three varnas - the brahmanas, kshatriyas and vaisyas - and for the shudras he established prakrita-bhasha, the ordinary language spoken by common men. After ruling his kingdom for 50 years, he went to the heavenly planet. The moral laws established by him were honored even by the demigods. The arya-varta, the pious land is situated between Vindhyacala and Himacala or the mountains known as Vindhya and Himalaya. The Aryans reside there, but varna-sankaras reside on the lower part of Vindhya. The musalman people were kept on the other side of the river Sindhu. On the island of Barbara, Tusha and many others also the followers of Isamsiha were also situated as they were managed by a king or demigods. ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ Note This Lord Shiva said: O king Bhojaraja, you should go to the place called Mahakakshvara, that land is called Vahika and now is being contaminated by the mlecchas. In that terrible country there no longer exists dharma. There was a mystic demon named Tripura(Tripurasur), whom I have already burnt to ashes, he has come again by the order of Bali. He has no origin but he achieved a benediction from me. His name is Mahamada(Muhammad) and his deeds are like that of a ghost. According to Bhavishya Purana Muhammad was the rebirth of Tripurasura the Demon. Tripurasura was killed by Shiva in his(Tripurasura’s) past life. -------------------------- Tripurasura's Past life (Mythology[not from bhavishya purana]) Tripurasur was the son of Sage Gritsamad. One day the sage sneezed and from this was created a young boy who the Sage brought up as his own son. The sage taught the boy the Ganana Twam, Ganesh Mantra. Equipped with this mantra the boy meditated intensely on Lord Ganesh who ultimately blessed him. He was given three pura-s of gold silver and iron. Since he was the owner of these three pura-s he was given the name Tripur. Ganesh also bestowed on Tripur to be the most powerful, who none but Lord Shiva himself could destroy and after being destroyed by Lord Shiva he would attain mukti-salvation. This boon made Tripur proud and he brought havoc in the entire world. He conquered the Nether world and then proceeded to takeover Heaven. He defeated Indra the king of heaven. His aggression made Lord Brahma hide in a lotus and Lord Vishnu in the Shirsagar. He soon also took over Lord Shiva’s Kailash Parvat and thus became the King of all the three worlds. The gods wondered on how to vanquish Tripurasur. Lord Narada told them that, since he had been granted a boon by Lord Ganesh himself it would be very difficult to vanquish him. He advised them to meditate on Lord Ganesh. Pleased Lord Ganesh decided to help the Gods. Disguised as brahmin he visited Tripurasur and told him that he was a very enlightened Brahmin and could make for him three flying planes. Riding these he woud be able to go anywhere he wished within minutes. The planes could only be destroyed by Shiva.In return Lord Ganesh asked him to get him the statue of Chintamani which was at the Kailash Mountain. Lord Shiva refused to give the statue to Tripurasur’s messenger. The angry Tripurasur himself went to get the statue. A fierce battle started between him and Lord Shiva. He destroyed everything that belonged to the Lord Shiva who too retired to the Girikandar. Lord Shiva too realized that he was unable to destroy Tripurasur because he had not paid his respects to Lord Ganesh. He recited the Shadaakshar Mantra to invoke Ganesh. On doing so from his mouth emerged Gajanan to grant Shiva a boon. Shiva continued his invocation of Ganesh who ultimately directed him on how Tripurasur could be killed. Lord Shiva was asked to recite the Sahastranam and then direct an arrow at the three pura-s of Tripurasur. Lord Shiva followed these instructions and finally vanquished Tripurasur. The place where Lord Shiva invoked Lord Ganesh he also created a temple for him. The town surrounding this temple was called Manipur. The village Ranjangaon is considered to be the place where Lord Shiva himself sought the blessings of Ganesh and ultimately destroyed Tripurasur. Mlechha (meaning) म्लेच्छ mleccha 1 A barbarian,a non Aryan ( One not speaking the Sanskrit Language or not conform in to Hindu or Aryan institutions),a foreigner in general 2 An Outcast, a very low man, Bodhayana thus defines the word: gomAmsakhAdako yastu viruddhaM bahubhAshhate | sarvAchAravihInashcha mlechchha ityabhidhiiyate | He who eats cow's meat, and speaks a lot against shastras and he, who is also devoid of all forms of spiritual practice, is called a mlechha. 3 A sinner, A wicked person, A savage or barbarian race etc... -------------- Paisachya (meaning) Paisachya Demonical, Infernal ---------------- Tripurasura Asura (meaning) Asura असुर 1 An evil spirit,demon 2 A general name for the enemies of Gods,

के द्वारा:

There is no compulsion in religion - यह आप के लेख की आखरी लाइन है - एक छोटा सा सवाल बार बार ज़ेहन में उभरता है - की फिर यह धर्म बदलने पर जोर क्यों - पिछले १४०० सालों से यही सिलसिला चल रहा है - और यह ओवैसी और उनके दुसरे भाई क्यों इतना ज़हर उगल रहे हैं | कल उन के एक मेम्बर महात्मा गाँधी को गाली दे रहे थे - उसी महत्मा गाँधी को जिस के कारण इस आदमी को इतना बोलने की आज़ादी मिली वर्ना अभी तक अंग्रेजों के तलवे चाट रहे होते | एक बार वो इतना बता दें की उन की वफादारी किस तरफ है - हिंदुस्तान की तरफ या कहीं और | कुरान कहती है अपने वतन से प्यार करो - अपनी मादरे वतन की इज्ज़त करो | फिर यह बात कहाँ से आयी की लाल किला, ताज महल और जामा मस्जिद हमारी है - यह हम कौन है | रहते यहाँ, कमाते यहाँ, खाते यहाँ और बात करते हैं हमारे तुम्हारे की | और ये क्या इन इमारतों को उठा कर ले जाना चाहते हैं - कहाँ ले जायेंगे | क्या इस सरज़मीं के किसी निवासी ने एक बार भी यह कहा की ये इमारते उस की नहीं हैं | अरे भाई ये तो हमारी धरोहर हैं | दक्षिण दिल्ली का एक बार दौरा तो कर लो और देखो मुग़ल काल के कितने बादशाहों के नाम पर कितनी सड़कें हैं | क्या यह किसी और मुल्क में यह सब दिखा सकते हैं | इस लिए मैं कहता हूँ की इस मेरे तेरे के पचड़े में मत पड़ो - पहले ही बहुत नुक्सान उठा चुके हो - अब सम्हल कर अमन चैन से रहो - इसी में हम सब का कल्याण हैं |

के द्वारा:

के द्वारा:

अपनी हिसटरी पढो व अपनी कुरान पढो तुम्हारी  बातो का खुद ही  उतर मिल जायेगा  बाबर गजनवी गौरी चंगेजखान तैमूरलंग क्या भारत मे टिंडे लेने आए थे आदमियो को मारा  लूटा व औरतो  को दमिश्क मे 2-2 दीनार मे बेचा हिन्दुओ पर जजिया लगाया औरंगजेब तक सभी  कीर्तन करते रहे थे कोरिया वियतनाम इरान इरान मे 8 साल  तक गीता पाठ किया फूल बरसाए थेअब अपनी धार्मिक पुसतक  देखिये कुरान अल बकरा24-126-161-162कुरान अल निसा34 आले इमरान10-12 अलनिसा 51-57 अलअराफ40सूर अल निसा 24-48 तबासी8-122सूरा अल अहजाब आयत37-39ससीह बुखारी5-59-512  कुरान अल निसा34  हदीस अबू दाउद2150 और भी बहुत माल है विस्तार भय से नही लिखा इन बातो से सिध्द है कि मुसलिम धरम कतल लूट रेप ठगी धोखा कृतघ्नता वर्ण संकरता  हराम  की आय पर टिका हैसबूत के तौर पर सलमान रसदी की किताब सैनेटिक वर्सेज तसलीमा नसरीन मन्दिर  तोड कर बनाई मस्जिद आदि बहुत सबूत हैं हिन्दु ओ ने भोगा है उसे कैसे नकारोगे

के द्वारा: snsharmaji snsharmaji

आदरणीय मलिक साहब, सादर नमस्कार। आपने तो बहुत ही कन्फ्यूज कर दिया। आपने जो विवेकानन्द जी एवं गैलोलियों के उदाहरण दिये हैं, उसके लिये मुझे दुवारा कुरान पढ़ने का सौभाग्य प्राप्त करना पड़ा। लेकिन अफसोस हुआ कि इस तरह का वहाँ कहीं पर भी वृतांत नहीं है। जहाँ तक गैलेलियों का प्रश्न है, उसने उस खुदा के नियमों पर सवाल उठाये थे जिसे आप स्वीकार करते हैं। उसका मंदिर, मस्जिद एवं चर्च से कोई झगड़ा नहीं था। उसने तो खुदा की व्यवस्था को चुनौती दी थी। आप जैसे कट्टर पंथियों ने उन्हे विवश कर दिया अपनी बात को अस्वीकार करने के लिये। आर्कमिडीज की गरदन को आप जैसी विचारधारा में विश्वास रखने वाले लोंगों ने ही धड़ से अलग किया था। खैर यह तो व्यर्थ की बहस होगी। अब कुछ सार्थक बातें इस उम्मीद से हों जायें कि आपसे तार्किक उत्तर प्राप्त होगा।  आप इस बहस को व्यर्थ की बातों में न उलझायें, अपितु  भरोदिया जी, वासुदेव जी, भूपेन्दर जी तथा  मुझ अदना के द्वारा पूछे गये प्रश्नों का तार्किक उत्तर दें। प्रतिक्रिया के नीचे ही प्रतिउत्तर दें। इस तरह के आलेख लिखकर क्यों देश का माहौल खराब करने पर तुले हैं आप। इन साम्प्रदिकता फैलाने वाली बातों को छोड़कर सामाजिक मुद्दों पर लिखें। 

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

साइमा जी, हम सत्य से भयभीत होते हैं.. हम सत्य से बचने के लिए आडम्बर गढ़ लेते हैं.. सही है/! किन्तु पहले सत्य को सिद्ध करने की क्षमता और उतना ज्ञान भी होना चाहिए.! गैलिलियो की तरह ये कहने से पहले कि, मैं स्वीकार कर लेती हूँ लेकिन इससे मेरा कहा सत्य नहीं बदल जायेगा, गैलिलियो की तरह सत्य को सिद्ध करना भी आना चाहिए.!! एकलब्य को रामराज्य और रामराज्य की पूर्ववर्ती घटनाओं को रामराज्य बताने वाला यदि अपनी अधकचरी जानकारी और मूर्खता के आधार पर अपने आपको गैलिलियो समझने लगे तो ये पोपगिरी की अंधी मानसिकता है गैलिलियो की विचारवानता नहीं.!! यह हास्यास्पद ही नहीं दयनीय भी है.! निश्चित रूप से दयनीय है जब पूरी दुनिया में बम फोड़ने वाले हिन्दुओं को कट्टरपंथी कहें..!! यह छुद्र मानसिकता ही है जो अर्थ का अनर्थ करती है.. विवेकानंद से जो मथुरा में एक पंडित ने कहा उसमे कुछ भी अपमानजनक नहीं था.. भारत शास्त्रार्थ का देश रहा है.. विवेकानंद पश्चिम के गुरु थे किन्तु भारत में अधिकांश पंडितों और साधू-संतों के शिष्य.!! स्वयं विवेकानंद ने मूर्तिपूजा की महिमा बताते हुए एक व्याख्यान में इसे दोहराया था! आपकी शंकाओं का मित्रो ने सप्रमाण उत्तर दिया.. मैंने आपको कुरान और हदीस का आइना दिखाया और भरोदिया जी ने नेक सलाह दी कि शुरुआत घर से करो..!! फिर भी आपको समझ नहीं आया और सत्य सत्य का ढिंढोरा पीटकर प्रवंचना करने में आप लगी रहीं..! बिना तर्क के और बिना आइना देखे सत्य सत्य का जो इतना शोर मचा रही हैं उससे एक यही सत्य सामने आता है शक-सवाल के कुरआन पर ईमान लाने वाली घुट्टी अपना काम कर रही है..! इस्लाम शब्द का अरबिक में अर्थ भी यही होता है.!!!

के द्वारा: vasudev tripathi vasudev tripathi

                          जब स्वामी विवेकानंद जब शिकागो अमेरिका और अन्य देशों में भ्रमण के बाद भारत लौटे ,तो बहुत उर्जा और विश्वास से भरे हुए थे,उनका विचार रहा होगा,कि जब गैर हिन्दू देशों में उनकी बात का इतना समर्थन मिला है,वेदों कि बात लोगों को इतनी पसंद आई है,तो अब भारत,जो बड़ों का देश है,हिन्दू संस्कृति का देश है,अपना देश है,यहाँ तो बात ही कुछ और होगी. उन्होंने भारत में प्रचार-प्रसार और अपनी बात रखने के लिए पहले स्थान के रूप में "उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर" को चुना,एक महान धार्मिक और अध्यात्मिक नगरी ...श्री कृष्ण की नगरी.... सभा में खड़े हुए,बात कहने के लिए,बोल भी न पाए थे कि.......एक पंडित महाराज सभा में उठ कर खड़े हुए,और कहा रुकिए विवेकानंद जी......पहले ये बताइये,आपको संस्कृत आती है? विवेकनद सच्चे और भीर व्यक्ति,वोले नहीं .....संस्कृत ज्यादा तो नहीं आती है,हाँ हिंदी और अंग्रेजी अच्छी आती है. पंडित महाराज ने कहा,जब संस्कृत नहीं आती,तो वेदों की बात आप क्या करेंगे...........वेद तो संस्कृत में है,और आप संकृत नहीं जानते.......फिर आप वेद ही क्या समझ पाए होंगे,जो वेदों पर बात करेंगे....या धर्म पर बात करेंगे......आप इस योग्य नहीं.....जाइए पहले संस्कृत सीख कर आइये,फिर बात करना .

के द्वारा:

              " गैलिलियो पर जब उसके शोध को धर्मविरुद्ध करार देकर,चर्च द्वारा मुकदमा चालाया जा रहा था,तब गैलियो ने बड़े गज़ब की बात कही,क्योंकि गैलिलियो एक अन्तरिक्ष विज्ञानी के साथ-साथ एक महान विचारक भी था,बड़ा विद्दन रहा होगा गलीलियो.. उसने कहा जब धर्म कहता है,और चर्च कहता है,पोप भी उसका समर्थन करते हैं,तो सत्य ही होगा,मै भी अब मानता हूँ कि......"धरती की परिक्रमा सूर्य करता है,अर्थात सूर्य धरती के चारो और चक्कर लगाता है,न की धरती सूर्य के चारो ओर चक्कर लगाती है,जैसा मेरा शोध कहता है..." मै गलत था,मेरा शोध भी गलत.......सब बकवास है........धर्म सही बात कहता है....." अंत में उसने कहा,जो कोर्ट में उसने कहा .....लाख टके की बात.......कि धर्म,पोप,और चर्च के साथ-साथ मेरे मान लेने से कुछ नहीं बिगड़ता.........मै मान सकता हूँ.......पर ये सूर्य नहीं मानेगा,न ये बात धरती मानेगी....... "घूमेगी पृथ्वी ही सूर्य के चारो ओर,वो हमारी या तुम्हारी बात नहीं मानेंगे........वो आपके कहने से अपनी गति या दिशा नहीं बदल देंगे...............सूर्य के चारो ओर घूमेगी पृथ्वी ही.......आप चान्हें कुछ कर लो.." हाँ मै मानता हूँ आपकी बात,मै अबतक के अपने शोध परिणामों को निरस्त/निरसित करता हूँ,रद्दी की टोकरी में फेंकता हूँ..........मै गलत हूँ...जैसा आप कहते हैं,वोही सत्य होगा ? तो हम भी (सायमा मलिक भी) आप लोगों की बात का समर्थन करते है,आपके तर्क सही हैं,हमारी बातें और विचार गलत.................पर मेरे मान लेने या न मानने से कुछ नहीं होने वाला .

के द्वारा:

आप सभी के विचारों,अभिव्यक्ति का हम सम्मान करते हैं,और आप सभी सधभावानापुर्वक साधुवाद योग्य हैं,आपके द्वारा कुछेक अच्छी जानकारी भी दी गयी,इसके लिए धन्यवाद. सत्य सदैव कढ़ुआ और तीखा होता है,पर वास्तविकता को हम नकार नहीं सकते,जो भौतिक वास्तविकता है,जो साक्षात है,जो दृश्य है,वो पूर्ण सत्य है......बिलकुल १००% सत्य. सत्य सदैव मर्म पर चोट करता है,क्योंकि सत्य हमें हमारी वास्तविकता से अवगत कराता है,जबकि हम अपनी वास्तविकता को छुपाना और ढांपना चाहते हैं,हम अपना एक काल्पनिक झूठा सत्य,अपने छदम अस्तित्व की रचना के साथ गठित कर लेते हैं,जो एक सुन्दर सपने के समान है,हम सपनों की दुनिया में जीने के आदी हैं........और जब-जब सत्य से हमारा सामना होता है,तो हम हड़बड़ाकर जागते हैं,और अपने वास्तविक विम्ब को स्वीकारना नहीं चाहते,हमें वो किसी और का अस्तित्व प्रतीत होता हैं,हमें आईने में अपना बिंब देखकर जिस प्रकार "कुँए में झांकते शेर को पानी में अपना प्रतिबिम्ब दुसरे शेर के होने का आभास करातें हैं" ठीक उसी प्रकार हम अपने अपने अस्तित्व की वास्तविकता को देखकर,जानबूझकर उसे किसी अन्य का बिम्ब मानकर,पुन: सपनों की छदम दुनिया में प्रवेश की चेष्टा करते हैं,या उस आईने को तोड़ने,वास्तविकता को नकारने,और झूठे और थोथले तर्कों के आधार पर सत्य को झूठ सिद्द करना चाहते हैं.

के द्वारा:

सैमा बहेन नमस्कार पहले तो मैं आप को दाद देता हुं की आप समाज को सुधारने का जजबा रखती है, वरना बूरके में कैद करनेवाले समाज में ये बहुत मुश्कोल हो जाता है । धर्म समाज का बहुत बडा अंग है । और धर्मों को सुधारना जरूरी भी है । लेकिन शरुआत हमेशां घर से करनी चाहिए । अपना घर पहले सुधर जाए तो दुसरे घर को सुधारना आसान बन जाता है । कोइ ताना तो ना मारे पहेले आपना संभाल । आप को एक बात बताना चाहुंगा । भारत की बात नही है, विदेश का एक मुल्ला ईस्लाम से तंग आकर ख्रिस्ति बन गया । क्यों की वो मुल्ला था तो कुरान असली भाषामें पढ सकता था. उसने शब्दसः अंगेजीमें अनुवाद कर दिया । पूरा का पूरा कुरान नेट पर रख दिया । कोमेंट देनेवालों ने गालियों की बौछार कर दी । कुरान में ऐसे खराब प्रसंग होते हैं किसी को मानने में नही आ रहा था । या तो मान के भी अंधश्रध्धा के कारण विरोध कर रहे थे । बहेन जी, पहले तो कुरानमें से महम्मद के बारेमें लिखे गये खराब वर्णन या प्रसंग को निकलवा दो । वो सब लिखा गया था तब प्रजा बहुत ही जाहिल थी आज के मुकाबले । लिखते समय सामाजिक परिस्थियां रही होगी । और लिखने वाले आज के मुल्ला के मुकाबले बहुत ही पिछडे हुए थी । वो पूराने थे तो ईसी वजह से अहोभाव मे आ कर सर पे नही बैठाया जा सकता । हर काल खंडमें मौजुदा मुल्ला ही सही साबित हो सकता है । उन की ही जिम्मेदारी होती है धर्म को सही दिशा देने की । हम या आप कुछ नही कर सकते ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

एक कहावत कहते हैं- आसमान की ओर मुंह करके थूकोगे तो थूक आकर मुंह पर ही गिरेगा...!! ये कहावत यदि कभी सुनी होती तो शायद आप आसमान पर थूकने की मूर्खता नहीं करते। रामराज्य की स्थापना करने वाले सभी धर्मों के नाश का सपना देखते हैं..., दारुल-इस्लाम जिनकी आस्था का केंद्र हो उनके मन में रामराज्य को लेकर यह भय बैठना स्वाभाविक ही है। स्त्री का अपहरण और युद्ध रामराज्य मे नहीं रावणराज्य मे हुआ था और उस रावण राज्य का अंत करके रामराज्य की स्थापना हुई थी। बाकी धर्म संबंधी व्याख्या उस व्यक्ति से करना मूर्खता होगी जिसे एकलव्य और स्वर्णमृग तक के विषय में मउआ-मूरी कुछ नहीं पता... दुनिया तो नहीं दिखाई देगी लेकिन दुनिया देखने के आँखें और प्रकाश होना आवश्यक है यह नीचे कुछ मित्रों ने स्पष्ट कर दिया है। रामराज्य का अर्थ सदैव रावणराज्य का अन्त करना रहा है और आज भी है। इसका किसी जाति या व्यक्ति से बैर नहीं है। इसका बैर गजनवी जैसे उन हत्यारों से है जो अरब की लुटेरी मानसकिता लेकर आते हैं और यहाँ हजारों सोमनाथ तोड़कर लाशों को रौंदते हुए लूट का सामान ऊंटों पर भरकर अल्लाह-हु-अकबर चीखते हुए चल देते हैं, अथवा तैमूर जैसे उन लुटेरों से रामराज्य का वैर है जो गाँवों मे आग लगाकर की गयी लूट से अमीर बनने का ख्वाब लेकर आते हैं। रामराज्य का विरोध मोहम्मद गोरी जैसे दगाबाजों और सिकंदर लोदी जैसे भेंडियों से भी है। रामराज्य बाबर जैसे जिहादियों का भी घोर शत्रु है मंदिरों को तोड़कर मस्जिद बनाना जिनका दीन रहा है। अकबर जैसे मीनाबाजारी छिछोरे बलात्कारी, गुरु का सर कटवा लेने वाले नराधम जहाँगीर अथवा गुरु के दो मासूम बच्चों को जिंदा दीवार मे चुनवा देने वाले औरंगजेब जैसे दरिंदे भी इस रामराज्य को झेल नहीं सकते। ऐसे मे रामराज्य से उनके पेट मे दर्द होना स्वाभाविक ही है जो आज भी इन नरधमों को अपना नेता आदर्श, मसीहा मानते हैं। रामराज्य तो प्राणिमात्र के परस्पर प्रेम की कहानी है जिसे “सब नर करहि परस्पर प्रीती” जैसे शब्दों मे गाया जाता है... इसे वे कैसे सहन कर सकते हैं जिनके लिए एक किताब ही आखिरी दीवार हो जिसके पार देखना, उनके लिए दोज़ख की आग मे जाना है। आप इनकी आयतों पर विश्वास नहीं करते या कर पाते तो ये आपको दोज़ख की आग मे हमेशा के लिए जलाने की धमकी देते हैं (कुरान- अल-बकरा 24/126/161/162... आले-इमरान 10-12... अल-निसा 51-57... अल-आराफ़ 40)। आपको ये चिंता सता रही है कि खुदा को सोने के हिरण से मोह कैसे हो गया... जबकि ऐसा हुआ नहीं इसका प्रमाण स्वयं रामायण ही है, और यदि आपको फिर भी लगता है तो भी फर्क नहीं पड़ता क्योंकि वो खुदा एक आम आदमी का जीवन जीने मे न शरमाता है और न झुँझलाता है। फिक्र थोड़ी उस खुदा पर फरमाइए जो एक खूंखार तानाशाह की तरह चिढ़ उठता है यदि कोई उसे किसी और रूप मे पूजे... किसी और को खुदा मान ले। ये तानाशाह खुदा इतने पर दोज़ख की आग मे भून डालने का फरमान सुना डालता है। उसके लिए हत्या लूट बलात्कार सब कुछ क्षम्य है लेकिन अपनी तानाशाही को चुनौती (शिर्क) बर्दाश्त नहीं... ये सबसे बड़ा पाप है ( सूरा अल-निसा 48)। और ज्यादा तो फिक्र तो आपको तब होनी चाहिए जब ये खुदा यहूदियों-ईसाइयों को मुसलमानों का खुला दुश्मन बताते हुए उन्हें गरियाने मे अल-माइदा जैसे सूरे के सूरे उतार डालता है। काफिरों के कत्ल का हुक्म दे डालता है… यही नहीं उनके माल को भी लूटने का आदेश देता है। गनीमत का माल कही जाने वाली लूट को कुरान मे जगह जगह हलाल (जायज़) कहा ही गया है, इसे लेते भी कैसे थे... tabari (8-122) देखिये- मुहम्मद ने बंधक बनाए गए खैबर के मुखिया से माल उगलबाने के लिए आदेश दिया कि इसे तब तक प्रताड़ित करो जब तक ये बता न दे इसके पास क्या है। जुबैर ने उसकी छती पर जलती हुई आग रख दी जब तक वो मर नहीं गया.! तब अल्लाह के पैगम्बर ने उसे मुसलमानो को दे दिया जिन्होंने उसक सर काट डाला। धोबी के लांछन को सुनकर राम ने सीता को निकाल दिया इतना तो आपने वाल्मीकीय रामायण से उठाकर कुछ मुल्ले-मौलवियों या सेकुलरिस्टों से सुनकर रख दिया लेकिन उसके बाद की कहानी कहने क्या एक और नबी उतरेंगे.?? अगर इतनी ही कहानी मे रहना चाहते हैं तो भी चलिए श्रीराम ने प्रजाहित मे अपनी पत्नी के साथ अन्याय किया इतना ही तो कह सकते हैं आप?? अब थोड़ी उसकी भी फिक्र कर लीजिए जब अपने मुंह बोले बेटे जैद की बीबी पर खुदा के फरिश्ते का दिल आ जाता है और अल्लाह फौरन आयत नाज़िल कर देता है जैद की बीबी जैनब अब जैद को हराम और पैगम्बर को हलाल हो जाती है। यहाँ मैं किसी तरह सीमा उल्लंघन नहीं कर रहा हूँ... आपको पता ही होगा यह सूरा अल-अहज़ाब आयत 37-39 की कहानी है जिसमे अल्लाह अपने रसूल की दिल की बात प्रकट करता है। यहाँ तक भी गनीमत थी... लेकिन जंग में औरतों को बतौर लूट और गनीमत का माल उठा ले आना और उन्हें रखैल बनाकर संभोग करना या फिर बेंच देना कितना जायज़ है..?? जंग मे हाथ लगी 17 साल की खैबर औरत सैफीया के बारे मे तो सहीह बुखारी (5:59:512) कहती है- पहले वो दहया के हिस्से में गई थी लेकिन फिर उसे अल्लाह के रसूल ने ले लिया था। सैफ़िया के बदले उसे 9-10 साल की सैफ़िया की दो भतीजी दे दी गईं थी ऐसा सहीह मुस्लिम बताती है। कुरान सूरा अल-निसा आयत 24 भी तो खुली जंग मे हाथ लगी औरतों के उपभोग की छूट देती है भले ही वे विवाहित हों.! आपको ये सोचकर भी उस खुदा की मानसिकता के बारे में चिंता नहीं होती कि ये आयत कैसे उतरी थी.? हदीस अबू-दाऊद (2150) बताती है कि ये आयत तब उतरी जब मुसलमानों ने अल्लाह के पैगम्बर से जंग मे हाथ लगी औरतों के उनके बन्दी पतियों के सामने संभोग करने की इच्छा जाहिर की। खुदा ने पर्मिशन दे दी ऐसे बलात्कार की और आपको ऐसे खुदा पर सोच नहीं आया..?? सहीह मुस्लिम (किताब 8, आयत 3371) मे मुसलमान अल्लाह के रसूल से पूंछते हैं कि हमने कुछ बेहतरीन अरब औरते बंधक बनाई हैं, हम चाहते हैं कि हम उनके साथ अज्ल (बाह्य वीर्यपात) संभोग करना चाहते हैं ताकि वो गर्भवती न हों क्योंकि हम उन्हें बैंचकर दाम चाहते हैं। (रसूल ने अज्ल से तो मना किया {इसीलिए मुसलमान गर्भनिरोध नहीं करते और जनसंख्या बिस्फोट करते जा रहे हैं} लेकिन बंधक औरतों के साथ संभोग या बैंचने से नहीं! क्योंकि यह लूट का हलाल माल था, इन्हें लौंडी कहते हैं। यह शब्द मेरा नहीं कुरान का है) ....क्षमा चाहता हूँ मित्र..!! मैं आपके लेख से बड़ी प्रतिकृया लिख गया... देखा तो रुकना पड़ा... वरना जानकारी तो अभी बहुत बाकी है... जैसे संभोग करने से मना करने पर औरत को फरिश्तों द्वारा शाप दिया जाना (बुखारी)... उसे कमरे मे बंद कर देना... मारना (कुरान अल-निसा, 34)..! अमूमन मैं राजनैतिक मुद्दों पर ही बोलता हूँ, सम्प्रदायगत बहस मे पड़कर लोगों की आँखें खोलकर दिल तोड़ता नहीं हूँ किन्तु फिर भी आप जबाब मे मुझे मेहर और हिस्सेदारी की दूकानदारी मत बताइएगा.... या फिर अपना कोई जाकिर नाइक स्टाइल का जोड़-तोड़...क्योंकि मैंने सूरा-बकरा की आयत 106 भी पड़ी है और मुझे ये भी पता है तक़या क्या होता है। रामराज्य कभी भी नस्ल के आधार पर कत्ल की नहीं सोच सकता क्योंकि गोरी-गजनी के दीवाने आज भले ही शरीयत का शोर मचा रहे हों किन्तु फिर भी वे हमारी ही नस्ल के हैं जिहादी अत्याचारियों ने जिनके बापों की गर्दन पर तलवार रखके अथवा माँओं को गनीमत का माल समझकर बलात्कार के द्वारा मुसलमान बनाया था। दमिश्क मे आज भी एक खंभे पर लिखा है कि यहाँ हिन्दुस्तानी औरतें 2-2 दीनार मे बेंची गईं। रामराज्य तो नस्ल क्या मनुष्य मात्र के परस्पर प्रेम का साक्षात्कार है- “बयरु न कर काहू सन कोई” और “सब नर करहिं परस्पर प्रीती” ...साभार!!

के द्वारा: vasudev tripathi vasudev tripathi

सर्व प्रथम आप ने कहा की राम राज्य में एकलव्य की अंगुली कटी गयी.. हसी आती है आप के ज्ञान पर.. और वैसे भी द्रोणाचार्य कभी हिन्दुओ के सम्माननीय नहीं रहे .. फिर कहा की एक सुदर को वेद पाठ सुनने पर उसके कान में सीसा डाला गया .. ये बात न तो बाल्मीकि रामायण में है न ही राम चरित मानस में है ये पेरियार की लिखित तमिल रामायण में है अतः लगता है की आपने रामायण तो कभी पढ़ी नहीं बल्कि उसका क्रिटिक्स पढ़ा है.. तीसरा आप ने कहा की श्री राम ने स्वर्ण मृग के कारन अपने पत्नी को असुरक्च्चित छोड़ दिया ये भी आप के अल्प ज्ञान को दर्शाता है राम उस मृग के पीछे से जाने से मन कर रहे थे पर माता सीता के असीम अनुरोध पर उनकी इच्छा के कारन उस मृग के पीछे गए चौथी बात आप ने कही की वो खुद राजा थे और अपनी पत्नी को नहीं बचा पाए परन्तु आपकी नीच बुद्धि में ये बात मई डाल दू की उस समय न तो वो राजा थे न राजकुमार वन में आदिकालीन जीवन बिता रहे थे और साधन हिन् होने के बावजूद भी उन्होंने अपनी पत्नी को बचने के लिए युद्ध किया .. फिर आपने लिखा की एक औरत के लिए उन्होंने इतना बढ़ा युद्ध किया किन्तु मामला एक औरत का नहीं होता यदि एक औरत के अपहरण पर आप चुप रहेंगे तो अगले दिन अगली औरत का अपहरण होगा इसलिए आप की ये बात विवेकशील ज्ञान से परे है.. फिर आप ने लिखा की भारत में सुद्रो को बहुत परेशां किया गया है.. लेकिन आपको याद दिला दू की भारत में महाभारत को लिखने वाले द्वैपायन व्यास जन्म से सुदर थे पर महान ब्रह्मण का दर्ज़ा उन्हें मिला... रामायण के रचयिता श्री बाल्मीकि जी भी जन्म और कर्म से पहले सुदर थे पर बाद में महान ब्रह्मण का दर्ज़ा मिला भारत में शंकराचार्य परंपरा के जनक श्री आदि शानाकराचार्य के गुरु वाराणसी के चंडाल नरेश थे महान कृष्णभक्त आदरणीया मीरा बाई के गुरुदेव संत रविदास जी थे वो भी एक सुदर थे जबकि मीरा बाई राजपरिवार की थी.. अतः आप जान बुझकर उलटी पुलती बाते न करे भारत में सुदरता की जन्म आधारित शुरात करने वाले मुल्ले है .. सन ८०० से पहले पूर्णतया कर्म आधारित व्यवस्था थी उदहारण के लिए सम्राट चन्द्रगुप्त सम्राट अशोक महेंद्र इत्यादी जाती से कोइरी थे पर राजा बने सम्राट आदिगुप्त समुद्रगुप्त कुमार गुप्त जाती से वैश्य थे पर सन ७०० तक राजा रहे ... अतः झूठ का प्रचार और प्रसार बंद करो.... वैसे तुम मुल्ला लग रहे हो और मुल्लो में झूठ बोलना धर्म में शामिल है जिसे ताकईया कहते है सायद तुम उसी काम में लगे हो....

के द्वारा: drbhupendra drbhupendra

कोई अधर्म करने वाला धार्मिक हो ही नहीं सकता………फिर आप किसी भ्रस्ट किसी सांप्रदायिक प्रवृति के व्यक्ति को हिन्दू कैसे कह सकते हो……….ध्यान रहे आप भी वही कर रहे हो………स्वाभाव से आप भी वैसे ही अधार्मिक लगते हो…….जिसका कोई मजहब नहीं बस स्वार्थ है………..और ऐसे अल्पशंख्यक सांप्रदायिक हिंशा भड़काने वाले स्वार्थी लोगों को मारना तो धर्म है………हमारा उद्धेश्य उन सबका संहार है जो देश में मजहबी सांप्रदायिक हिंशा को फ़ैलाने का प्रयत्न करते हैं....हम संपूर्ण राष्ट्रवादी शक्तियों को संगठित कर देश में एक नई आजादी, नई व्यवस्था एवं नया परिवर्तन लायेंगे और भारत को विश्व की सर्वोच्च महाशक्ति बनायेंगे। यही हिन्दुओं अवं हिंदुत्व का उद्देश्य है……..! प्रीतीश

के द्वारा: pritish1 pritish1

कोई अधर्म करने वाला धार्मिक हो ही नहीं सकता.........फिर आप किसी भ्रस्ट किसी सांप्रदायिक प्रवृति के व्यक्ति को हिन्दू कैसे कह सकते हो...........ध्यान रहे आप भी वही कर रहे हो.........स्वाभाव से आप भी वैसे ही अधार्मिक लगते हो.......जिसका कोई मजहब नहीं बस स्वार्थ है...........और ऐसे अल्पशंख्यक सांप्रदायिक हिंशा भड़काने वाले स्वार्थी लोगों को मारना तो धर्म है.........हमारा उद्धेश्य उन सबका संहार है जो देश में मजहबी सांप्रदायिक हिंशा को फ़ैलाने का प्रयत्न करते हैंध्यान रहे आप भी वही कर रहे हो......... हम संपूर्ण राष्ट्रवादी शक्तियों को संगठित कर देश में एक नई आजादी, नई व्यवस्था एवं नया परिवर्तन लायेंगे और भारत को विश्व की सर्वोच्च महाशक्ति बनायेंगे। यही हिन्दुओं अवं हिंदुत्व का उद्देश्य है........! प्रीतीश

के द्वारा: pritish1 pritish1

धर्म न माने आपका, उसका कर दो कत्ल। हमें खुदा ने किसलिये, दी है ऐसी अक्ल?? पाप करो पाओ क्षमा, बढ़ेंगे निश्चित पाप। न्यायी कैसे बन गये, अरे खुदा जी आप।। पहिले भारी पाप कर, फिर ले माफी माँग। धर्म ग्रन्थ में है लिखा, खुदा करेगा माफ।। लेकर तेरे नाम को, शत्रु दुख, ले प्राण। नाम खुदा का कर रहे, वह पापी बदनाम।। दिल में मुहर लगाय के, पापी दिया बनाय। दोष नहीं कुछ जीव का, पापी खुदा कहाय।। जो उसके अनुयायी हैं, बस उसको उपदेश। मारो, काटो, लूट लो, दूजे मत के शेष।। क्षमा पाप से यदि करे, सब पापी बन जाय। इसीलिये संसार में बढ़ हुआ अन्याय।। करे प्रसंशा स्वयं की, वह कैसा भगवान। मुझको तो ऐसा लगे, खुदा में है अभिमान।। मेरे मत के लोग ही, जा पायेंगे स्वर्ग। दूजे मत के वास्ते, बना दिया क्यों नर्क? दूजे मत अनुयायी जो, काफिर देंय पुकार। ऐसे तो बन जायगा, काफिर यह संसार।। जिसको चाहे दे दया, जिसपर चाहे क्रोध। पक्षपात यदि जो करे, नहीं खुदा के योग्य।। मारा मेरे भक्त को, दोजख में दे डाल। मारे मेरे शत्रु को, स्वर्ग जाय, तत्काल।। दुष्ट हो अपने धर्म का, उसको मित्र बनाय। सज्जन दूजे धर्म का, उसके पास न जाय।। दूजे मत का इसलिये, उसको दिया डुबाय। जो उसके अनुयायी हैं, उसको पार कराय।। करवाये भगवान सब, पुण्य होय या पाप। फल क्यों न पाये खुदा, चाहे हो अपराध?? पक्षपात कहलायगा, फल यदि खुदा न पाय। क्षमा खुदा को यदि मिला, तो यह कैसा न्याय।। जिस फल से पापी बने, लगा दिया क्यों वृक्ष। जिसके खाने के लिये, बात नहीं स्पष्ट।। यदि स्वयं के वास्ते, तो कारण बतलाय। आदम से पहिले उसे, खुदा नहीं क्यों खाय।। बारह झरने थे झरे, शिला पे डण्डा मार। ऐसा होता अब नहीं, क्यों विकसित संसार?? निन्दित बंदर बनोगे, कहकर दिया डराय। झूठ और छल खुदा जी, आप कहाँ से पाय।। हुक्म दिया औ हो गया, कैसे हुआ बताय। किसको दिया था हुक्म ये, मेरी समझ न आय।। पाक स्थल जो बनाया, क्यों न प्रथम बनाय। प्रथम जरूरत नहीं क्या, या फिर सुधि न आय।। नहरें चलती स्वर्ग में, शुद्ध बीबियाँ पाय। इससे अच्छा स्वर्ग तो, पृथ्वी पर मिल जाय।। कैसे जन्मी बीबियाँ, स्वर्ग में, आप बताय। रात कयामत पूर्व ही, उन्हे था लिया बुलाय।। औ उनके खाविन्द क्यों, नहीं साथ में आय? नियम कयामत तोड़कर, किया है कैसा न्याय?? रहे सदा को बीबियाँ, पुरुष न रहे सदैव। खुदा हमारे प्रश्न का शीघ्र ही उत्तर देव?? मृत्य को जो जीवित करे, औ जीवित को मृत्य। मेरा यह है मानना, नहीं ईश्वरीय कृत्य।। किससे बोला था खुदा, किसको दिया सुनाय? बिना तर्क की बात को, कैसे माना जाय? खुदा न करते बात अब, कैसे करते पूर्व?? तर्कहीन बातें बता, हमको समझे मूर्ख।। हो जा कहा तो हो गया, पर कैसे बतलाय? क्योंकि पहिले था नहीं, कुछ भी खुदा सिवाय।। बिना तर्क की बात को, कैसे माना जाय?? तौबा से ईश्वर मिले, और छूटते पाप। इसी सोच की वजह से, बहुत बड़े अपराध।। ईश्वर वैदक है नहीं, यह सच लीजै मान। सच होता तो बोलिए, क्यों रोगी भगवान?? जड़ पृथ्वी, आकाश है, सुने न कोई बात। क्या ईश्वर अल्पज्ञ था, उसे नहीं था ज्ञात?? बही लिखे वह कर्म की, क्या है साहूकार? रोग भूल का क्या उसे, इस पर करें विचार?? आयु पूर्व हजार थी, अब क्यों है सौ साल? व्यर्थ किताबें धार्मिक, मेरा ऐसा ख्याल।। सच सच खुदा बताइये, क्यों जनमा शैतान? तेरी इच्छा के विरुध, क्यों बहकाया इंसान?? बात न माने आपकी, नहीं था तुमको ज्ञात। तुमने उस शैतान को, क्यों न किया समाप्त?? मुर्दे जीवित थे किये, अब क्यों न कर पाय? मुर्दे जीवित जो किये, पुनर्जन्म कहलाय।। कहीं कहे धीरे कहो, कहते कहीं पुकार। यकीं आपकी बात पर, करूँ मैं कौन प्रकार?? अपने नियम को तोड़ दे, मरे मैं डाले जान। लेय परीक्षा कर्म की, कैसा तूँ भगवान?? हमें चिताता है खुदा, काफिर देय डिगाय। कैसे ये बतला खुदा, तूँ सर्वज्ञ कहाय?? बिना दूत के क्या खुदा, हमें न देता ज्ञान? सर्वशक्ति, सर्वज्ञ वह, मैं कैसे लूँ मान?? बिना पुकारे न सुने, मैं लूँ बहरा मान। मन का जाने हाल न, कैसा तूँ भगवान?? व्यापक हो सकता नहीं, जो है आँख दिखाय। वह जादूगर मानिये, चमत्कार दिखलाय।। पहुँचाया इक देश में ईश्वर ने पैगाम। ईश्वर मानव की कृति लगता है इल्जाम।।

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

आदरणीय  मलिक  साहब, सादर नमस्कार। ईसु इंडिया में आये, बाइविल  में तो नहीं है, है कहाँ पर  मित्रवर आधार तो बतलाइये। पीने की तो बात दूर छुउँगा भी नहीं इसे, धरम  की मदिरा न  मुझको पिलाइये। युगों बाद छूटे हैं विदेशियों के चंगुल  से, धरम  से फिर न गुलाम  ये बनाइये। मानवता धर्म  एक  आओ   अपनाय  हम, धरम  की बातों से न हमें उकसाइये। मंदिर और मस्जिद तोड़के क्या मिला तुम्हें, बातें वही करके न  हिंसा करवाइये। छोटि छोटि जाति उपजातियों में बाँटकर, दूजा पाकिस्तान  फिर से नहीं बनाइये। ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ ग्रंथ  ये  जितने बने हैं पुस्तकें कानून  की थी, हमने ईश्वर को जनम दे, आदमी में डर भरा है। मृत्यु असफलता की आशंका हुई जब बुद्धि को, तब ही तो इस  धर्म  का निर्माण  ये हमने किया है। स्वार्थ  बुद्धि आनियंत्रित  आदमी की हो रही थी, आदमी हो न  अनैतिक, धर्म  से इतना डरा है। ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ अद्वतीय, स्वयंभू, असीमित, आत्मनियत विश्व या द्रव्य को स्पिनोजा प्रकृति या ईश्वर कहते हैं। ये विश्व को ईश्वर नाम देकर, ईश्वर शब्द के प्रचिलित अर्थ को त्यागते हैं। ईश्वर का अर्थ वह सत्ता है जो समस्त विश्व से प्रथक है और इसका सृष्टा और रक्षक है। यदि ईश्वर का अस्तित्व समस्त विश्व से प्रथक है तो ईश्वर न तो गुणों में और न शक्ति में असीमित रहेगा, इसलिये ईश्वर नहीं रहेगा। यदि ईश्वर समस्त विश्व से भिन्न है तो भिन्नता तभी संभव है जब समस्त विश्व में ऐसे गुण संभव हों जो ईश्वर के गुणों से भिन्न हों। इसका अर्थ यह हुआ कि ईश्वर में कुछ गुणों का अभाव होगा। इसी प्रकार यदि समस्त विश्व का ईश्वर से प्रथक अस्तित्व है तो ईश्वर की शक्ति सीमित है। कोई भी दो द्रव्य एक दूसरे की शक्ति को सीमित करते हैं। इसलिये ईश्वर का कोई प्रथक अस्तित्व नहीं। प्रकृति और ईश्वर एक अद्वितीय, असीमित और स्वयंभू द्रव्य के दो नाम है, जैसे किसी व्यक्ति के दो नाम होते हैं। स्पिनोजा ने समस्त विश्व को ईश्वर इसलिये कहा है कि वे समस्त विश्व के आध्यात्मिक पक्ष की सत्यता पर जोर देना चाहते थे। स्पिनोजा के अनुसार प्रकृति या ईश्वर ही स्वतंत्र है। स्वतंत्र साधारणतया अपनी मनमानी इच्छा से काम करने वाले को कहा जाता है। किन्तु असीमित प्रकृति या ईश्वर की कोई इच्छा नहीं हो सकती। इच्छा तो सीमित व्यक्तियों का लक्षण है। जब स्पिनोजा प्रकृति या ईश्वर को स्वतंत्र कहते हैं, तब उनका अभिप्राय यह है कि प्रकृति या ईश्वर का कार्य किसी बाहरी शक्ति के द्वारा निर्धारित नहीं होता, बल्कि उसके अपने स्वभाव का अनिवार्य परिणाम है। विश्व पूर्ण है। इसमें न कुछ बढ़ाया जा सकता और न कुछ घटाया जा सकता, जैसे 2+2=4 के अतिरिक्त अन्य संख्या नहीं हो सकती। मनुष्य की उच्चतम अवस्था वह है जो ईश्वर को बौद्धिक रूप से प्यार करे। ईश्वर केवल समस्त विश्व का नाम है। जिसका ताना-बाना तार्किक है। समस्त विश्व के लिये प्यार का आधार आवेग नहीं, बल्कि बुद्धि है। जिस चीज को हम प्यार करते हैं, उसके साथ एक हो जाते हैं। जब स्वतंत्र मनुष्य एक अद्वितीय, स्वयंभू, असीमित और नित्य विश्व का द्रव्य के साथ एक हो जाता है, तब वह मानसिक रूप से नित्यता का अनुभव करता हैं। जो अवर्णीय है। बुद्धि से स्वार्थ भावना के साथ साथ मृत्यु और असफलता की आशंका भी जन्म लेती है। अपने अहम् भाव के सृजित होने के कारण, विनाश के संभावना की चिंता तथा कर्मों की असफलता की संभावना से उदिग्न होने के कारण बुद्धि प्रतिकार करके, नैतिकता की संभावना बनाती है। उसके उपाय स्वरूप कपोल कल्पनाओं द्वारा धर्म का उदय होता है। पहली कपोल कल्पना से अलौकिक तथा देवीय अस्तित्व कायम कर, उसकी स्वार्थ परता पर दण्ड की संभावना से नियंत्रित करता है। समाज विरोधी कर्मों पर अंकुश लगाने से समाज व्यवस्थित होता है। दुसरी कपोल कल्पना से आत्मा की अमरता के कारण, मृत्यु की आशंका से मुक्त होता है। तीसरी कपोल कल्पना से, सर्वशक्तिमान दयालु ईश्वर एवं उसकी आराधना के विधान से कठिनाई के समय सहायता द्वारा असफलता की आशंका से मुक्ति होती है। मानवीय ज्ञान और वैज्ञानिक दृष्टकोण की तीन अवस्थायें हैं-१.ईश्वर परक- यह प्रथम तथा निम्न अवस्था है। जिसे मानव का शैशवकाल कह सकते हैं। इस अवस्था में मनुष्य इन्द्रियातीत सत्ताओं तथा शक्तियों में पूर्णतः विश्वास करता है। बालक की तरह प्रत्येक प्राकृतिक घटना का अनुभवातीत देवीय पुरुष में ही ढ़ूढ़ता है। अनुभवातीत देवीय शक्तियों एवं उनमे विश्वास करने वाले गुरुओं का अधिक महत्व होता है। व्यक्ति और समाज दोनों को इस अवस्था से गुजरना पड़ता है। २.तात्विक- देवीय शक्तियों का महत्तव समाप्त कर उनके स्थान पर मनुष्य नैर्वेयक्तिक अमूर्त शक्ति को ही प्रत्येक प्राकृतिक घटना का हेतु मानता है। ३.प्रत्यक्षवादी- यह ज्ञान के विकास की सर्वोच्च अवस्था है। मनुष्य दैवीय तथा अमूर्त शक्तियों का परित्याग करता है। अपने अनुभव तथा प्रेरक्ष को ही ज्ञान का आधार बनाता है तथा सर्वव्यापी प्राकृतिक को खोजता है। प्रत्येक समस्या पर वैज्ञानिक दृष्टिकोण से विचार करता है। विज्ञान को महत्ता प्राप्त होती है। उम्मीद  है आप मेरी शंकाओं का समाधान करेंगे। तथा अपने आलेख  को के संबंध  में यदि कोई  विश्वसनीय प्रमाण  दें तो आपका आभार व्यक्त करूँगा।

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

प्राचीन इतिहास,नवीन शोध,उपलव्ध साक्ष,सभ्यता और अन्वेषण से जोगता एक उत्कृष्ट लेख है ये,परन्तु हिंदी भाषी लोगों के लिए अरुचिकर है. मुझे ये कहते लेश मात्र भी संकोच नहीं कि हिंदी बोलने वालो कि संकुचित विचारधारा और साधारण सोच के साथ-विज्ञान के प्रति उनकी उदासीनता ने ही "हिंदी भाषा" की दुर्गति की है,अन्यथा हिंदी आज की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा के साथ,सबसे अधिक अनुप्रयोग और लेखन की भाषा बन चुकी होती. हिंदी भाषियों की उदासीनता ने हिंदी भाषा में स्तरीय लेखन के द्वार संभवता सदैव के लिए बंद कर दिए हैं,क्योंकि विज्ञान गल्प,विज्ञान फैंटेसी,बाल साहित्य,को लगभग अरुचिकर मान लिया है,इतिहास और भूगोल से सम्बंधित लेखों के साथ भी येही होता है,हद तो ये है की विश्व स्तरीय साहित्य को पड़ने वाले हिंदी भाषी लोग कम ही हैं. हिंदी भाषियों का चाहिए प्रेम ग्रन्थ,वियोग,विग्रह,धर्म,कविता,सैक्स,फ़िल्में,क्रिकेट से जुड़े फूहड़ लेख.तो हिंदी का ये हाल होना ही है.किसे फ़िक्र है,कि सम्पूर्ण देश तो क्या सम्पूर्ण विश्व कि भाषा बने.

के द्वारा:

अनूप पाण्डेय जी के प्रश्न का जवाब लिख रहा हूँ,प्रश्न चूँकि अच्छा है, उल्का का गिरना और परमाणु विस्फोट में भारी अंतर है,हांलाकि दोनों स्थिति में अपार उर्जा निकलती है और विध्वंस भी होता है. चूँकि परमाणु विस्फोट में रेडियोधर्मी तत्व जैसे युरेनियम,प्लेटिनम,रेडियम आदि का प्रयोग किया जाता है,अत: विस्फोट के समय प्रभावित क्षेत्र में "रेडियोधर्मी तत्व" फ़ैल जाते हैं ,जो दीर्घ काल तक वहां के वातावरण में रहते हैं,जैसे हिरोशिमा,नागासाकी और चेर्नोविल और फुकुशीमा में उल्काएं सामान्यत: रेडियोधर्मी तत्वों से नहीं बनी होती,नाही धरती पर सामान्यत: रेडियोधर्मी तत्व खुले रूप में होते हैं,अपवाद रूप में केरल समुन्द्र तट की रेट जैसे स्थानों को छोड़कर ,अत: उल्का टक्कर से वातावरण में रेडियोधर्मिता नहीं फैलती. उल्का टक्कर व् विस्फोट से अत्यधिक विशाल क्रेटर (गड्ढा) बनता है,जो बाद में किसी झील जैसा रूप ले लेता है,और बहुत बड़े खेत्र की मिटटी को उलट-पलट और स्थान परिवर्तन कर देता हैं,जिससे मिटटी की बनावट प्रभावित हो जाती है,अनुमान है कि सहारा रेगिस्तान का निर्माण पूर्व में किसी उल्का-पात का परिणाम है,लाखों वर्ष पहले ये हरा-भरा उर्वर मैदान था,जिसके अवशेष आज भी यदा-कदा रेत के नीचे दवे हुए मिलते हैं. उल्का पात्र विशाल क्षेत्र के सभी निर्माण को नष्ट कर देता है. और परमाणु विस्फोट की स्थिति में उल्कापात की तुलना में बहुत छोटा गड्ढा बनता है,स्थानीय भूमि की संरचना न के बराबर प्रभावित होती है,बहुत सीमित क्षेत्र की संरचनाएं नष्ट होती हैं,वास्तविक विनाश वायु से आक्सीजन समाप्त हो जाने,अत्यधिक ताप और आग आदि से होती हैं. मोहनजो दड़ो यदि उल्का पात से नष्ट होती,तो किसी समीपस्थ स्थान पर बहुत बड़ा गड्ढा अवश्य होता,सभ्यता के सभी अवशेष पूर्णतय: नष्ट हो जाते,और मानव अवशेष वाकी रहना तो दूर की बात है.

के द्वारा:

चन्दन राय आपकी राय और विचार सचमुच बहुमूल्य हैं,पर मै अपने लेख से मात्र ये सिद्ध करना नहीं चाहता की एलियन का अस्तित्व प्रमाणिक सत्य है,परन्तु साक्ष्य क्या कहते हैं,विश्लेषण करने का प्रयास किया है . फिर भी मैं अपने विचारों में लगभग ८०% सहमत हूँ कि परग्रही जीवों का अस्तित्व सत्य और वास्तविक है. क्रोप सर्किल के विषय में कुछ और जानकारी भी हम आपसे शेयर चाहते हैं- ये सत्य है कि कुछ स्थानों पर क्रोप सर्किल से जुडी घटनाएं मानव निर्मित पायी गयी है,कुछ लोगों नें खुद भी ऐसे क्रॉप सर्किल बनाने के दावे भी किये हैं,एवं खुद बनाकर दिखाए भी हैं,पर उन प्रकरण में कुछ बातें अन्य घटनाओं से अलग हैं,जैसे- मानव निर्मित क्रॉप सर्किल में ,उस स्थान तक आने और जाने के स्थान कि फसल भी गिर जाती है,जो स्पष्ट दिखाई देती है,जबकि अन्य घटनाओं में ऐसा नहीं है. मानव निर्मित क्रॉप सर्किल आकार में तुलनात्मक रूप से अत्यंत छोटे,एवं साधारण आकृति वाले ही होते हैं. मानव निर्मित क्रॉप सर्किल में फसल गिरने का तरीका अलग होता है,अधिकतर कोणीय आकृति मानव द्वारा बनाया जाना संभव नहीं हुआ. आज तक जितने भी मानव निर्मित क्रॉप सर्किल बनाए गए,वे दिन के प्रकाश में वायुयान से प्राप्त दिशा-निर्देशों की सहायता से बनाए गये हैं,जबकि विश्व के अलग-अलग स्थानों पर "क्रॉप सर्किल" रहस्यमय तरीके से रात के अँधेरे में बन जाने के दावे किये गये है,कुछ "क्रॉप सर्किल" तो मानव बस्तियों के इतने करीब बने पाए गये,कि वहां यदि रात में वायुयान की सहायता से "क्रॉप सर्किल" बनाया जाता,तो बस्ती के सभी लोगों को वायुयान की आवाज़ और प्रकाश दिखाई अवश्य देता.पर उन घटनाओं में ऐसी बस्ती के किसी व्यक्ति ने ये दावा नहीं किया,कि उसने कोई गतिविधि घटनास्थल पर किसी वायुयान या प्रकाश स्रोत को उस स्थान पर देखा या सुना. दूसरी बात "रहस्मय क्रॉप सर्किल" के अतिरिक्त "एलियन और यु.ऍफ़.ओ. से सम्बंधित दूसरा प्रकरण" भी,क्रॉप सर्किल बनने से भी अधिक रहस्यमय और अनसुलझा है - नाजका रेखाएं ========= पेरू में नाजका और पाल्पा के मध्य धरती पर बनी विशेष ज्यामितीय आकृतियाँ,जिन्हें सम्भाव्टी:४००-६५० ए.डी. बनाया गया था.ये आकृतियाँ भी इतनी विशाल हैंकि किसी वायुवीय दिशा-निर्देश के इन्हें बनाया जाना संभव नहीं है,और वायु-यान का आविष्कार तो १९ वीं शताव्दी में हुआ.........इनके संभावित निर्माण काल में तो मानव के पास "उत्कृष्ट लौहे के औज़ार" भी नहीं थे. दूसरी विशेष बात ये है,कि प्रत्येक सम्पूर्ण आकृति एक ही रेखा को मोड़ते हुए बनायी गयी है,जैसे बिना पेन/पेन्सिल को कागज़ से हटाये हुए,एक ही बार में समूर्ण चित्र बना दिया जाए. ये कठोर पत्थर के धरातल पर लोहे कि छेनी जैसे औज़ार से बनाई गयी हैं,जिनमे प्राकृतिक रंग भरे गये हैं,ये रंग आज भी मौजूद हैं,साथ ही खुदी हुई रेखायों में छोटे छोटे पत्थर भी रंगकर रखे गये हैं. तो आखिर उस पूर्व काल बिना किसी ज्यामितीय ज्ञान और अन्तरिक्षीय/उंचाई से दिशानिर्देशन के ये ज्यामितीय आकृतियाँ किसके द्वारा,कैसे और क्यों बनाई गयीं.

के द्वारा: malik saima malik saima

क्या मोहनजोदड़ो सभ्यता एलियन ने नष्ट की थी? blog link- http//: ausafmalik01.jagranjunction.com/?p=429#comment-324 इस लेख में प्रदर्शित फ़ोटोज़ से सम्बंधित और अविश्वसनीय परन्तु सत्य जानकारी जो "एलियन रहस्य" से सम्बंधित है,विशेष कमेंट्स के रूप में यहाँ आपसे शेयर की जा रही है- रोज़बेल बहुचर्चित और अनसुलझा प्रकरण -------------------------------------------- रोज़वेल,मैक्सिको,अमेरिका में १९४७ में एक अज्ञात यान क्रैश होने की घटना,जिसे यु.ऍफ़.ओ. और एलियन से जोड़कर देखा जाता है..........ऐसा माना जाता है,कि ऐसी घटना वास्तव में घटित हुई थी,तथा कुछ प्रत्यक्षदर्शियों का तो ये भी दावा था,कि उस दुर्घटना ग्रस्त यान को उन्होंने छूकर भी देखा था,और उसमें एलियंस भी मौजूद थे,जो उन्होंने देखे थे.पर कुछ ही देर बाद वो स्थान अमेरिकी सैनिकों ने घेर लिया,व दुर्घटना स्थल कि जांच पड़ताल के बाद,वे सैनिक यान का विखरा मालवा और अलियांस को अज्ञात स्थान पर ले गए. सैनिकों ने आते ही पुरे दुर्घटना स्थल और समीप के स्थान को अपने घेरे में ले लिया था,स्थानीय निवासियों और प्रत्यक्षदर्शियों को वहां से दूर हटा दिया गया था.व् उन्हें बताया गया कि ये एक सेना का प्रायोगिक वायुयान था,जो अचानक दुर्घटना ग्रस्त हो गया,अत: सुरक्षा दृष्टिकोण से उन्हें दूर हटाया जा रहा है. अगले ही दिन समस्त अमेरिका में समाचारपत्रों के माध्यम से घटना की चर्चा जोर-शोर से हुई,पर सेना और सरकार ने ऐसी किसी भी घटना की जानकारी से इनकार कर दिया..............कहा गया ऐसी कोई घटना रोज़बेल या किसी अन्य स्थान पर नहीं हुई......ये कोरी अफवाह करार दी गयी. कुछ सैनिक जिन्होंने यान का मलवा एकत्र किया था,उनमे से कुछ ने प्रारंभ में प्रेस के व्यक्तिगत स्तर पर इस घटना को स्वीकार किया...........पर अगले ही दिन वे अपने पूर्व वक्तव्य से पलट गए,और सरकार और सेना के समान "घटना" को नकार दिया. ये प्रकरण आज तक चर्चित और अनसुलझा है,पर पिछले दिनों "विकिलीक्स" ने कुछ गोपनीय सैनिक दस्ताबेज उजागर कर दिए,जो तात्कालिक रूप से सेना और सरकार के "रोज़वेल प्रकरण से जुड़े मेमो,रिपोर्ट,एवं सत्यता सम्बन्धी दस्तावेज़" हैं. एक बार फिर रोज़वेल प्रकरण जुलियन असान्जे ने विकिलीक्स के माध्यम से जिंदा कर दिया. "रोज़वेल घटना" को आधार बनाकर हालीवुड की बहुचर्चित फिल्म "इंडिपेंडेंट डे" बनायी गयी,जो बहुत सफल रही.

के द्वारा:

के द्वारा: malik saima malik saima

मैडम साइमा जी आदरणीय दिनेश आस्तिक जी  , आपका लेख एवं टिप्पणी एक सुन्दर प्रयास है परन्तु गाथा तो इतनी बड़ी है की गद्दारों, चाटुकारों.एवं देशद्रोहियों पर किताबों पर किताबें भरी पड़ी, परन्तु आपने अपनी सुविधानुसार दो चार नाम लिख कर बाकी पर पर्दा डालने का कार्य किया है इससे समाज का कोई भला नहीं होने वाला क्योंकि अगर भावी पीढ़ी को या वर्तमान समाज को कुछ बताना ही है तो वह अपनी सुविधानुसार या एक ही दिशा या एक परिवार के विषय मैं कहना इतिहास के साथ बलात्कार करना जैसा ही है, यहाँ तो अमर शहीद क्रांतिकारी भगत सिंह को फांसी की सजा दिलाने वाले शादी लाल को अंग्रेजों ने पुरस्कृत करते हुए,सर की उपाधि दी अकेले नहीं है इस देश के एक पूर्व प्रधान मंत्री ने भी सरकारी गवाह बन कर अपनी जान ही नहीं बचाई क्रांतिकारियों का भेद भी अंग्रेजों को बताया था लेकिन भाग्य के धनी होने के कारण सात वर्ष तक प्रधान मंत्री पद के वैभव का सुख भी भोग था ---धन्यवाद

के द्वारा: s.p. singh s.p. singh

यह तो कुछ  नहीं है मैडम  नेहरु जी ने उत्तर  प्रदेश  पुलिस  की कमान उस  व्यक्ति के हाथ  में दी थी जिसने चन्द्रशेखर को इलाहाबाद  के पार्क  में घेरा था जबकि चन्द्रशेखर  को नेहरु जी ने ही चन्दा देने के बहाने इलाहाबाद   बुलाया था। यह बात  केवल  नेहरू जी को मालूम  थी। जब वह देश  के प्रधान मंत्री बन सकते हैं तो फिर शादी लाल  या खुशवंत  सिंह के पिता को सम्मान क्यों नहीं। 1857 में सिंधिया का अंग्रेंजो का साथ  देने का परिणाम  ही है कि आज  उनके परिवार के सदस्य दोंनो ही प्रमुख  राष्ट्रीय दलों में अपना प्रभाव जमाये हुये हैं। इस  तरह की कहानियाँ तो भरी पड़ी हैं।

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

मालिक जी आपका शिकवा जायज हें / बात कार्टून के लेकर नहीं बल्कि वोट बैंक को लेकर हें इसलिए तथाकथित आँख बंद कर वोट डालने वाले दलित को ये दिखाना हें कि उनसे बड़ा उनका कोई खैर ख्वाह नहीं / जो भी इस बार को सिद्ध कर देगा वोट की फासला वो ही काटेगा / ये मोका भी दस्तूर भी तो क्यों न गरम तवे पर दो रोटियाँ सेंक ली जाएँ / स्वस्थ आलोचना का अपना समाज व देश हित में अपना महत्व हें / जब इमर्जेसी लगी तो ये लोग कोई आलोचना व विरोध नहीं कर पाए उसका खामियाजा हम सबने भोगा / गेलोलियो हो या सुकरात सभी को विरोध का सामना करना पडा / पर आज उनकी बातें सत्य साबित हुईं व पुरे संसार को लाभ हुवा / यदि बहती नदिया का पानी रोक दिया जाये तो पानी सड़ कर पीने लायक भी नहीं रहेगा / फिर कार्टून का विरोध क्यों / इससे तो लोग बाबा साहब को ओर जान्ने लगे / संसद के ५४३ ओर राज्य सभा के २३५ संसद सदस्य के कार्टून बना दीजीये आप कितने पहचान पायेगें / शायद ५ प्रतिशत भी नहीं *जिसे आप पहचाने गें वो काफी खुशकिश्मत व मशहूर होगा जेसे लालू , सोनिया , अडवानी , मन मोहन जी आदि / इससे तो बढ़िया हमारी न्याय पालिका व वकील हें जो फिल्मों में ओर आम जीवन में न जाने कितनी आलोचना व कार्टून का शिकार बनते हें पर क्या कोर्ट ने कभी कोर्ट की अवमानना का नोटिश किसी को दिया हें / ये हमारी न्याय पालिका के बड़प्पन व महानता का परिचायक हें जो मर्यादा में सबकों अपनी बात कहें का हक़ देती नेता सभी सभी बुरे नहीं इस लिए सबको एक डंडे से हांकना उचित नहीं वो भी हमारे समाज का हिसा हें ओर उनको आपने , मेने हम सबने नेता बनाया हें / यदि आप उन्हें गलत समझते हें तो मत चुनिए उन्हें / न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी / जब हम वोट डालने जाते हें तो जात पात को ध्यान में रख कर वोट करते हें */ उनके गलत बनाने में हमारा दोष हें / इस लिए कड़े शब्दों को प्रयोग करने से पहले हमें अपनी भूमिका को भी देखना होगा अंत में आप अच्छा लिखती हें / बधाई

के द्वारा: satish3840 satish3840

बात कुछ पुराने वक्त की सी है,पर है मजेदार और दिलचस्प.......शायद सच भी हो..........हुआ कुछ यूँ था................एक शख्श मुशायरा सुनने अपनी बस्ती से दूर शहर जा रहा था,कि रास्ता में एक जगह "बेरी के पेड़" के नीचे बैठकर पेशाब करने लगा,देखता क्या है,अचानक एक ताज़ा पका सुर्ख बेर पेड़ सामने पड़े गोबर में आकर गिरा...........कहने लगे,सद-अफ़सोस ऐसा तरोताज़ा,चमकदार,और शायद लज़ीज़ बेर कमबख्त किस्मत में न था....कमबख्त को गिरना ही था,कुछ हटके ही गिर जाता........क्या चला जाता.......अब क्या मिल गया,पड़ा है गंदे गोबर में .........सड़ेगा.....कीड़े पड़ेंगे,तब पता चलेगा. पर बेर के सुर्ख चमकीले रंग कि कशिश,भीनी खुसबू,तरोताजगी उनके दिल को बार-बार माज़ूर करती,कि उठा कर खाले...........पर दुवारा ज़मीर ललकारता.....क्या गंदा बेर खाना,शर्म आणि चाहिए. ज़मीर और जुबान में से आखिर जीत जुबान कि हुई,इंसानी फितरत हाबी हो गयी.....इधर-उधर साबधानी से देखा ,कि कोई देख तो नहीं रहा है,तन्हाई का इत्मीनान करके,बेर गोबर से निकाला,पास के तालाब में धोया...........और खाया,बास्तव में लज़ीज़ और जायकेदार था,बेकार ही महरूम रह जाते..........इस लज़ीज़ फल से...........और पहुँच गए कब्बाली प्रोग्राम में. कब्बाल ने अपना सुर-ताल लय-और-साज़ संभाल कर कब्बाली शुरू कि- या खुदा तेरा जलबा,नूर जो टपका ज़मी पर तेरा किसको कहाँ ,कैसे, कितना महस्सर महस्तर वो मै जानता हूँ,या ये ....... कहो तो कह दूँ?.... आ..आ..आ...उन कहो तो कह दूँ? तक....तक....तक धिन.....तक......आ ....या खुदा कहो तो कह दूँ?........... बस उन साहेबान को तो पसीना आ गया,कि आज तो भरी महफ़िल में फजीहत हो जायेगी........शायद इस शायर ने मुझे बेर उठाकर खाते हुए देख लिया है..........कमबख्त कहाँ छुपा था,जो देख लिया.......पर मुझे दिखाई नहीं दिया........अब राज़ खोलने कि धमकी दे रहा है. तरकीब सोचने लगे,क्या करू,उठकर भाग जाऊं,या छिप जाऊं कहीं पीछे..........पर फिर सोचा,कि तब ते मेरे पीछे ये राज़ पूरी महफ़िल को बता ही देगा....आज इज्ज़त सरे-बाज़ार नीलम होने से कोई माई का बाप नहीं रोक सकेगा...कमबख्त बड़ा हरामी कब्बल है. अचानक उठे,दस का नोट कब्बल को पेश कर दिया.....आकर अपनी सीट पर बैठे ही थे,कि कब्बाल ने फिर बोही मिसरा............कहो तो कह दूँ? फिर बापस तेज़ी से भागे,दस का नोट फिर कब्बाल को ... मुह फेरा ही था लौटने को......................कि कब्बाल ने फिर....कहो तो कह दूँ ? भागे दस का नोट कब्बाल को कब्बाल और जोश में...........कहो तो कह दूँ ? भागे पचास का नोट कब्बाल को थमाया लौटे कि कब्बल ....तक...तक....धिन...धिन... कहो तो कह दूँ ? फिर पचास का कहो तो कह दूँ ? फिर सौ का नोट ...............पर हालात फिर जस-के-तस ...कहो तो कह दूँ ? कब्बाल बार-बार वोही लाइन दोहराए जा रहा है,कि शायद ज्यादा ही अच्छा मिसरा है,जो इतनी दाद,और नोटों कि बारिश हो रही है......जितना वो नोट देता...कब्बाल उतने ही जोश से...कहो तो कह दूँ ? जब थक गए,जेब भी लगभग ख़त्म होने को थी........तमतमा गए...भिन्न गए......अजीब अहमक और ज़लील कब्बाल है,इतना रुपया दे चूका,फिर भी चुप नहीं रही....न मौजु बदल रहा. भड़कते हुए खड़े हो गए.............वोले कहना है तो कह दे....क्या कहेगा....मैंने भी धोकर तो खाया था बेर,कोई गोबर से निकाल ऐसे ही थोड़े चबा गया....कह दे अब तू . ....जो भी होगा देखा जाएगा.....पर एक बात है,आज तू निकल इस महफ़िल से बाहर,तब बताऊंगा

के द्वारा:

                        शाही जी,नमस्कार...........बहुत दिनों के,हम बे-बतनों को याद बतन की मिटटी आई है,...........सो अब आपकी चिट्ठी आई है..................जिसके लिए तमाम अम्बार शुक्रिया. उर्दू के तलफ्फुज,अंदाज़े बयान,तसरिः(प्रोनाउनसियेशन,प्रजेंटेशन,एंड एक्सप्लेनेशन ऑफ़ उर्दू) के बेदर्द इस्तेमाल का अनूठा प्रयोग- नीम-हकीम खतरा-ऐ-जान और नीम मुल्ला खतरा-ऐ-ईमान उर्दू अदव और तहजीब की महफ़िलों में जोक-ओ-शौक से शायर को बार-बार दाद देने के जुमले उछालते एक साहेबान के पड़ोस में बैठे (उर्दू अलफ़ाज़ की कम जानकारी बाले शख्स) ने उन्हें उर्दू का माहिर और जानकार समझते हुए पूछा..........जनाब इस शेर का खुलासा-ऐ-मतलव बयान कर दीजिये. तो उस माहिर इल्मी-शक्सियत ने कुछ यूँ खुलासा बयान किया- शायर के कहने का अंदाज़ ये है,कि हकीम तू नीम के पेड़ के नीचे मत बैठ......वर्ना वहां तेरी जान भी खतरे में है और ईमान भी.................बाह कमाल कर दिया.

के द्वारा:

के द्वारा: jalal jalal

साइमा जी सभी धर्म अपनी अपनी जगह पर हैं. भाई जिन्हें जो चुनना है चुनें. अगर किसी को लगता है की सिर्फ उनका धर्म अच्छा है तो उसके बारे में बताएं. ताकि लोग और जाने. लेकिन दुसरे के बारे में गलत बातें बोलना मेरे हिसाब से तो ठीक नहीं.कोई धर्म नहीं कहता है की दूसरों को मारो तभी तुम इसमें कामयाब होगे. तो फिर काहे का झगडा. यह तो सदियों से नहीं सुलझा है यही सोच कर लोग सुलझाने की कोशिश में उलझ जाते हैं. बेहतर है सभी अपनी अपनी अच्छी बातें लोगों तक फैलाएं. यहाँ पर तो लोगों ने अपने धर्म के बारें में कम और दूसरों के धर्म के बारे में ही सारी बातें की हैं. और कोई अपने धर्म को अच्छी तरह निभा रहा है तो इसमें बुरा कुछ भी नहीं. बशर्ते दुसरे के में टांग ना अड़ाए. और आपके लिए एक बात, हालांकि मैं जानता हूँ की यह आपने जवाबी करवाई की है फिर भी की जब तक कोई हमला ना करे तब तक ऐसी बातें हम ना लिखें तो ज्यादा बेहतर है क्यूंकि सभी लोग (हर तरफ के) बुरे नहीं होते लेकिन ऐसे जवाब देख कर उन्हें बुरा लग जाता है. और आप खुद समझदार हैं.

के द्वारा: jalal jalal

के द्वारा: dugdugi dugdugi

प्रिय मलिक साहब सादर वंदेमातरम ! हिन्दी हास्य व्यंग्य की प्रसिद्ध पुस्तकों में एक पुस्तक है \"खट्टर काका\", हरिमोहन झा ने इसे लिखा है । इस पुस्तक में हरिमोहन झा ने वेद, पुराण, रामायण, उपनिषद, राम, कृष्ण, सभी देवी देवाताओं पर व्यंग्यबाण छोड़े हैं । वे संस्कृत भाषा के भी जानकार हैं इसलिये उन्होंने इस व्यंग्य पुस्तक में वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण सबके श्लोक और दोहों को उद्धृत किया है और बड़ी चालाकी से अर्थ का अनर्थ करते हुये हास्य व्यंग्य की फुहार से पाठकों को आनंदित किया है । हम लोग उनकी इस किताब को खूब मजे ले ले कर पढ़ते हैं । अगर हरिमोहन झा ने यह हिमाकत एक मुसलमान होकर कुरान शरीफ के प्रति की होती तो किताब छपने के पहले ही उनके सिर पर फतवा जारी हो गया होता । . आपकी यह पोस्ट पढ़ कर हरिमोहन झा के खट्टर काका की याद आगयी । आपने भी खूब श्लोकों का अर्थ का अनर्थ किया है । मैं आपके इस मजाक को सीरियसली नहीं लेता हूं । क्योंकि अगर सीरियसली ले लूंगा तब कुरान और हदीस की एक एक आयत का सही अर्थ पेश करूंगा जो कि आप नहीं चाहेगें । इसलिये आपसे विनम्र निवेदन है कि इस तरह का घटिया मजाक आइंदा मत करियेगा । बात बढ़ायेंगे तो बढ़ती चली जायेगी । . फिलहाल एस डी बाजपेई जी की पोस्ट गीता और कुरान पर कल मेरी छोटी सी टिप्पणी देख लीजियेगा । ऐसी छोटी छोटी दर्जनों टिप्पणियां आप अपनी पोस्ट पर नहीं देखना चाहेंगे । . आपका के एम मिश्र

के द्वारा: kmmishra kmmishra

के द्वारा: Mala Srivastava Mala Srivastava

जहाँ तक ...... आपका ये कथन है की .............महात्मा खुद अपनी शिक्षा विलायत में प्राप्त करता है…..तो पुत्र को ठीक वैसा ही करने से रोकने का कारण……आखिर अपनी संतान के लिए हठ क्यों……कुछ गलत तो नहीं मांग रहा था हरिलाल…………..केवल उसका सपना था,पिता की तरह विलायत जाकर पड़ने,और पिता की तरह एक अच्छा वैरिस्टर बनने का…… तो यहाँ आपको विचार करना होगा इस सब पढाई के बाद भी वो जनता के अधिकारों के लिए सामाजिक स्तर पर लड़ रहा था ............ न की कानूनी स्तर पर........ और शायद यही कारण हो की उस महात्मा ने ऐसा करने से इनकार किया........ अपने बेटे को विलायत भेज कर स्वदेशी का बहिष्कार करने वाले व्यक्ति को क्या महात्मा कोई कहता............. जबकि आप जैसे लोग इतनी कुर्बानियां लेने के बाद तक उसको महत्मा मानने से इनकार कर देते हैं............ आपको और आपके पुरे परिवार को हमारी और से दिवाली की हार्दिक बधाई ……….. ये दिवाली आपके और आपके परिवार को ढेरों खुशियाँ दे..............

के द्वारा: Piyush Pant, Haldwani Piyush Pant, Haldwani

नंदा दीप जलाना होगा| अंध तमस फिर से मंडराया, मेधा पर संकट है छाया| फटी जेब और हाँथ है खाली, बोलो कैसे मने दिवाली ? कोई देव नहीं आएगा, अब खुद ही तुल जाना होगा| नंदा दीप जलाना होगा|| केहरी के गह्वर में गर्जन, अरि-ललकार सुनी कितने जन? भेंड, भेड़िया बनकर आया, जिसका खाया,उसका गाया| मात्स्य-न्याय फिर से प्रचलन में, यह दुश्चक्र मिटाना होगा| नंदा-दीप जलाना होगा| नयनों से भी नहीं दीखता, जो हँसता था आज चीखता| घरियालों के नेत्र ताकते, कई शतक हम रहे झांकते| रक्त हुआ ठंडा या बंजर भूमि, नहीं, गरमाना होगा| नंदा दीप जलाना होगा ||..................................मनोज कुमार सिंह ''मयंक'' आदरणीय सेमा जी, आपको और आपके सारे परिवार को ज्योति पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं || वन्देमातरम

के द्वारा: atharvavedamanoj atharvavedamanoj

के द्वारा:

के द्वारा:

मलिक साहब आपने उन्नीसवीं सदी के शुरूआती दशक में भारत में ठगों के आतंक, उनकी बोली और सर कर्नल विलियम हेनरी स्लीमैन के बारे में अच्छी जानकारी दी है । ठगों के बारे में और सर कर्नल विलियम हेनरी स्लीमैन के बारे मे थोड़ी जानकारी मैं भी पाठकों देना चाहूंगा । अभी हाल ही में सर कर्नल विलियम हैनरी के वंशजों में से किसी एक महत्वपूर्ण व्यक्ति का इंटरव्यू एक अंग्रेजी पत्रिका में छपा था । उनके बारे में एक अनोखी जानकारी मैं आपके ब्लाग कें माध्यम से पाठकों देना चाहता हूं । आप मेरी ज्ञानबघारू प्रवृत्ति से परिचित ही हैं, उम्मीद करता हूं कि अन्यथा नहीं लेंगे । . ठगों के कुछ कूट शब्द ये भी थे - . नारायण - आदमी नाले के पास से आ रहा है । दामोदर - इसके उदर में दाम है (माल है) वासुदेव - लाठी से मार । आदि । . सर विलियम हेनरी स्लीमैन का जन्म 8 अगस्त 1788 को हुआ था और उनकी मृत्य भारत से इंग्लैण्ड वापस लौटते हुये जहाज में हुयी थी 10 फरवरी 1856 को । . उन्होंने 1809 में बंगाल आर्मी ज्वाइंन की थी । नेपाल युद्ध ‘1814-1816’ में भाग लिया था और सन 1820 में वे गवर्नर जनरल के सहायक नियुक्त हुये थे । .. सर विलियम हेनरी स्लीमैन को उस वक्त भारत में प्रचलित खुंखार ठगी प्रथा को समाप्त करने के लिये याद किया जा जाता है । सन 1835 में उन्होंने ठगों के खिलाफ आपरेशन शुरू किया था और 1839 तक उन्होंने 1400 ठगों को मृत्युदण्ड देकर उनका का पूरा सफाया कर दिया था । . सर स्लीमैन बेऔलाद थे । एक बार वे जबलपुर के एक गांव से अपनी पत्नी सहित गुजर रहे थे । एक टूटे हुये शिवालय पर दोनों रूक कर यात्रा की थकान मिटाने लगे । उस टूटे मंदिर के पुजारी ने उनसे बातचीत की तो पता चला कि कर्नल स्लीमैन को कोयी औलाद नहीं है और दोनो पति पत्नी इस वजह से बेहद दुखी थे । शिवालय के पुजारी ने कहा कि आपको शिव जी की कृपा से एक पुत्र साल भर के भीतर ही होगा । जब पुत्र हो जाये तब आप दोनों भगवान शिव को धन्यवाद देने दुबारा जरूर आईयेगा । . भगवान शिव की कृपा से कर्नल स्लीमैन को साल भर के अंदर एक पुत्र हुआ । कर्नल स्लीमैन अपनी पत्नी और नवजात पुत्र के साथ दुबारा उस गांव में पहुंचे और पति पत्नी दोनों ने भगवान शिव के चरणों में अपने नवजात पुत्र को लिटा दिया । दोनों ने भगवान शिव की न सिर्फ पूजा की बल्कि उस शिवालय का जिर्णोद्धार भी कराया । . उसके बाद से उस गांव का नाम कर्नल स्लीमैन के नाम पर स्लीमानाबाद हो गया और आज भी सर कर्नल विलियम हैनरी स्लीमैन की औलादें 150 साल बाद भी उस गांव के शिवमंदिर में आकर भगवान शिव के चरणों में सिर नवाती हैं क्योंकि उन्हीं के आशीर्वाद से कर्नल स्लीमैन का वंश चला । कर्नल स्लीमैन की पांचवी या छठी पीढी के जिन सदस्य का मैंने इंटरव्यू पढ़ा था वे इंग्लैण्ड की न्यायपालिका में सम्मानित जज हैं लेकिन वे स्लीमानाबाद आना नहीं भूलते । कर्नल स्लीमैन के वंशजों ने इस गांव के उद्धार के लिये दिल खोल कर धन खर्च किया है ।

के द्वारा:

के द्वारा:

प्रिय मलिक साहब, सादर वंदेमातरम ! सबसे पहले तो आपसे अनुरोध करूंगा कि हमारी इस वार्ता से बहुत टेंस होने की जरूरत नहीं है । वार्ता का आनंद लीजिये और थोड़ा मुस्कुराईये । आपने कहा - . "रही बात राष्ट्र प्रेम और देशभक्ति कीएतो स्वम को ? एक पूर्ण भारतीय नागरिक और देशप्रेमी? मानता हैं, रही बात की की राष्ट्र भावनाओं को ठेस पहुंचाने की तो ऐसा सपने में भी कभी विचार नहीं किया हमने.हम भारत के प्रत्येक नागरिक से ये आशा रखता हूँएकि वो अपने देशध्राष्ट्र के प्रति अपने प्रेमएवात्सल्य समर्पित करे सदैव देश के लिए जिए और जब मृत्यु का क्षण आये तो देश के लिए हंसकर ख़ुशी से न्योछावर हो जाये" . मैं आपकी इन बातों की कद्र करता हूं । हम सब के लिये राष्ट्रधर्म सबसे पहले है और जब देश की पुकार हो अपना सर्वस्व न्यौछावर कर देना चाहिये । आज इसी सोच की सबसे ज्यादा जरूरत है । . आपने कहा है -हमारा कहना है कि जो शव्द भ्रम या संदेह उत्पन्न करे, उसको प्रयोग में लाने कि आवश्यकता क्या है, हम भारतीय जाने क्यों, हर चीज़, हर बात में श्रृंगार करना चाहते हैं, जाने कौन सी आदत है हमारी . मलिक साहब ‘कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है’ कोई श्रंगार का शब्द नहीं है । यह एक संवैधानिक शब्द है । जम्मू कश्मीर के संविधान में अभिन्न शब्द का दो बार प्रयोग हुआ है । यह दुनिया को बताने के लिये है कि चाहे पूरी कायनात एक तरफ हो जाये कश्मीर हमारा है और आगे भी रहेगा । . अभी कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने विधानसभा में एक विवादस्पद बयान दिया था कि भारत में कश्मीर का पूर्ण विलय नहीं हुआ है । उनके कहने का भी यही अर्थ था कि भारत वालों कान खोल कर सुन लो कश्मीर भारत का सिर्फ अंग है और हम इस अंग को इतना सड़ा देंगे कि तुमको अंत में इस अंग को ऑपरेट करके निकालना पड़ेगा । तब उनको पूरे भारत ने उठ कर कहा था कि मुख्यमंत्री साहब आप पहले जम्मू कश्मीर का संविधान पढ़ लें । सबसे पहले तो वहीं लिखा है कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है । . आपने कहा कि जो शब्द संदेह या भ्रम पैदा करे उसे प्रयोग में लाने की क्या जरूरत है । मलिक साहब आज पहली बार किसी के मुंह से सुन रहा हूं कि अभिन्न शब्द से संदेह और भ्रम पैदा होता है । अभिन्न शब्द का प्रयोग तो भारत की संसद ने जम्मू कश्मीर के लिये सैंकड़ों बार किया है । आज तक यह तर्क मैंने न कहीं पढ़ा और न ही किसी विद्वान के मुंह से सुना । इसके विपरीत अभी हाल ही में पाक संसद ने एक प्रस्ताव पारित किया कि भारत सरकार जम्मू कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग न कहा करे । . आज आप कह रहे हैं कि अभिन्न शब्द का इस्तेमाल मत करो कल कोई और साहब आकर कहेंगे कि अंग शब्द का भी इस्तेमाल मत करो । . सिर्फ इसलिये कि अभिन्न शब्द से गिलानियों और अरूंधती रायों को बढ़ावा मिलता है हम इस संवैधानिक शब्द का इस्तेमाल करना बंद करदें, एक कमजोर दलील है । क्या आज हम इन दो कौड़ी के देशद्रोहियों के इतने मोहताज हो गये हैं कि कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग कहना बंद कर दें । सारा कसूर केन्द्र सरकार की नपुंसकता का है । जब वह सम्मेलन हो रहा था तभी उठा कर तिहाड़ में डाल देना था सभी को और देशद्रोह का मुकद्दमा रजिस्टर करना था । आईबीएन 7 के महान पत्रकार आशुतोष कह रहे थे कि अरूंधती राय बड़ी हस्ती हैं, दुनिया में तहलका मच जायेगा, ये हो जायेगा, वो हो जायेगा । अब अपने देश में ला एण्ड आर्डर मेनटेन करने के लिये भी क्या हमें विदेशी एजेंसियों का मुंह ताकना पड़ेगा । यह हमारा अंदरूनी मामला है, किसी का कोयी हक नहीं कि वो हमारे अंदरूनी मामले में दखल दे । देश की सम्प्रभुता भी कोयी चीज होती है या सिर्फ वो कहने और पढ़ने के लिये ही संविधान की प्रस्तावना में रखी गयी है । . मुझे जान कर बड़ी खुशी हुयी कि आप कभी न कभी इलाहाबाद उच्च न्यायालय तशरीफ लाये हैं । पर लगता है कि आप वकीलों की भीड़ और वह आलीशान इमारत देख कर ही चले गये । आपने माननीय इलाहाबाद उच्च न्यायालय की तुलना एक भीड़भाड़ वाले रेलवे प्लेटफॉर्म से कर दी । अगर आपको भारत की न्यायपलिका के 150 साल पुराने आधार स्तंभ और एशिया की सबसे बड़ी उच्च न्यायालय की महत्ता और गौरव की जानकारी होती तो आप यह तुलना कभी न करते । माननीय इलाहाबाद उच्च न्यायालय का भारत देश की न्यायपलिका में क्या स्थान है इस पर कई खंड में हजारों पेज की किताब लिखी जा सकती है । आपको सिर्फ इतना याद दिलाना चाहूंगा कि जब श्रीमती इंदिरा गांधी ने भारत के लोकतंत्र को बंधक बना लिया था तब यह इलाहाबाद उच्च न्यायालय थी जिसने श्रीमती इंदिरा गांधी के खिलाफ निर्णय दिया था । इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने देश को क्या दिया है यह समझने के पहले उसे रेलवे स्टेशन मानने की सोच छोड़नी होगी । . वैसे मैं आपकी जिद को सलाम करता हूं कि मेरे इतने तर्क देने के बावजूद भी आप देश के इकलौते विद्वान हैं जो कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग नहीं मानते हैं । आपको आपकी जिद मुबारक । जय हिंद ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

परम प्रिय विद्दान अधिवक्ता,श्री मिश्र जी,माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद को सादर नमस्कार- आप विद्वान अधिवक्ता हैं,वो भी माननीय उच्च न्यायलय इलाहाबाद में-----ये गौरव कि बात है-----------और आपके कमेंट्स और लेखों से लगता है कि आपकी विषय पर पकड़ भी अच्छी है-----और प्रस्तुति भी-----------बस एक ही कमी अखरती है--------दुसरे के विचार समझने,उनका गहन एवं सूक्षम अवलोकन कर भाव समझने के स्थान पर------अपनी बात कहने की तीर्व उत्कंठा-----और पूर्वाभास---पूर्व परिकल्पनात्मक विचार. मेरे कहने के तात्पर्य पर पुन: विचार करें------ \"जो लोग कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताते हैं---------वे लोग कहीं---न--कहीं गिलानी और अरुधंति के विचारों को ही हवा दे रहें हैं\"...........मैंने ये नहीं कहा के वे भी अरुधंति और गिलानी की तरह देश द्रोह सद्रश्य कार्य कर रहे है,या देश द्रोही है..............हमारा कहना है,कि जो शव्द भ्रम या संदेह उत्पन्न करे............उसको प्रयोग में लाने कि आवश्यकता क्या है..............जबकि उससे श्रेष्ठ और समानार्थी शव्द पहले ही प्रयोग में है..............हम भारतीय जाने क्यों------हर चीज़-----हर बात-----में श्रृंगार करना चाहते हैं--------जाने कौन सी आदत है हमारी--------वस् शव्दों से श्रृंगार करते हैं------अरे श्रृंगार करना है तो अपने विचारों से करो-------अभिव्यक्ति से करो-----अपने कार्य और व्यवहार से करो----- हम ये क्या करते रहते है-----------राष्ट्र के अन्दर महाराष्ट्र----------देव के साथ महादेव-------श्री के साथ-साथ सर्व श्री-----------और हद तो तव है,जव हम कुछ यूँ करते हैं--------श्री....श्री....श्री.....सर्व श्री.......भगवान्.....महादेव.....श्री....श्री...१००८....\"अमुक\" महाराज............या \"श्री...श्री...श्री ...१००१...\"श्री अमुक पांच को सरकार ......ये क्या है.....क्या मात्र श्री या भगवान् से काम नहीं चलेगा यदि हमें अभिन्न शव्द का प्रयोग ही करना है....उसके बिना हमारा भोजन हजम नहीं होता हो तो.....ऐसा भी कह सकते हैं कि \"पाक अधिकृत कश्मीर \"जिसे पाकिस्तान आज़ाद कश्मीर कहता है \"पाक अधकृत कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और कश्मीर भारत का अंग है \" रही बात भारत के संविधान की,तो उसमें किसी भी स्तर पर कोई भाषाई त्रुटी नहीं है,संविधान में वर्णित प्रत्येक शव्द चुन-चुन कर लिखा गया है,इसलिए ही हमें संविधान की भाषा के अधिकाँश शव्द समझ ही नहीं आ पाते......और कुछ शव्द पहले भी,चर्चा का विषय बने है.....और जिनकी विशेष संविधानिक व्याख्या भी समय-समय पर संवंधित वादों में की गयी है................उदाहरण स्वरुप- संविधान की प्रस्तावना में \"विशेष संविधान संशोधन \"प्रक्रिया द्वारा शव्दों का जोड़ा और हटाया जाना.............चर्चित वाद,केशवानंद भारती वनाम...... ,मिनर्वा मिल वनाम...... ,आदि में माननीय न्यायालय द्वारा शव्दों की पुर्व्याख्या......\".संभिदान के मुलभूत ढांचा \" की व्याख्या आदि पर मात्र इलाहाबाद में,माननीय उच्च न्यायालय में अधिवक्ता होने मात्र से,कोई संविधान का पारंगत नहीं हो जाता--------------हमने देखा है,इलाहाबाद उच्च न्यायालय परिसर में अधिवक्ताओं जमघट,वो सेंट्रल वार लाइब्रेरी वरामदाह (vaaraamdaah) उत्तरी और दक्षिणी,सेंट्रल हाल-----बिल्डिंग के वाहर खुले लान में,वो लैव्रेरी कैंटीन कि भीड़ और उमस-------------सचमुच अलग अनुभव------लगता है मानो पूरा देश माननीय अधिवक्ता हो गया-------जहां याचिका करता कम ही दिखाई देते है,और मान्न्नीय अधिवक्ता असंख्य............सचमुच एक अलग ही अनुभव-----एक अलग रोमांच-------भीड़ में न कोई बड़ा ----------न कोई छोटा------सब एक से------सब कि एक सामान मेजें-------एक सामान कुर्सियां-----और बैठने का एक सामान स्थान--------------हमें दो-तीन स्थान ही देश में विल्कुल एक से लगते हैं--------------मुंबई का क्षत्रपति शिवाजी रेलवे टर्मिनल-------कुर्ला/बांद्र/चर्चगेट जंक्शन. सर्वप्रथम मेरे किसी भी वक्तव्य/वाक्यांश का अर्थ अन्यथा न लें----सीधे और स्पष्ट भाव को समझे-----मै वाकपटुता (jugglary of words) का समर्थक हूँ------सादा सोचता हूँ-----सादा बोलता हूँ------और स्तरीय सोच रखता हूँ. रही बात राष्ट्र प्रेम और देशभक्ति की,तो स्वम को \" एक पूर्ण भारतीय नागरिक और देशप्रेमी\" मानता हैं,रही बात की की राष्ट्र भावनाओं को ठेस पहुंचाने की--------तो ऐसा सपने में भी कभी विचार नहीं किया हमने-------हम भारत के प्रत्येक नागरिक से ये आशा रखता हूँ,कि वो अपने देश/राष्ट्र के प्रति अपने प्रेम,वात्सल्य,समर्पित करे,सदैव देश के लिए जिए-----और जब मृत्यु का क्षण आये तो देश के लिए हंसकर--ख़ुशी से न्योछावर हो जाये.

के द्वारा:

मलिक साहब सादर वंदेमातरम ! मैं माननीय इलाहबाद उच्च न्यायालय का एक अदना सा अधिवक्ता हूं । मुझमें एक भारी कमी है । जब भी मुझे यह लगता है कि कोई बात राष्ट्रहित के खिलाफ जा रही है मैं उसे बर्दाश्त नहीं कर पाता हूं । . आप का यह लेख तारीफ के काबिल है । बस आपकी एक बात पर मुझे घोर आपत्ति है । आपने कहा कि कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग कहने वाले भी सैयद अली शाह गिलानी और अरूंधती राय की मानसिकता रखते हैं । आपको नहीं लगता कि आपने देशद्रोहियों और देशप्रेमियों को एक ही तराजू में तौल दिया । . मैंने अपनी बात के समर्थन में तमाम उन लोगों के कथन उद्धरित किये हैं जो भारत की केन्द्रीय सरकार चलाते हैं । प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, विदेश मंत्री एस एम कृष्ण (जिन्होंने अभी संयुक्त राष्ट्रमहासभा में जोर देकर कहा है कि संयुक्त राष्ट्र की 65वीं महासभा में अपने संबोधन में कड़े शब्दों का इस्तेमाल करते हुए कृष्णा ने कहा कि जम्मू और कश्मीरए जो भारत का अभिन्न अंग हैए पाकिस्तान प्रायोजित उग्रवाद और आतंकवाद के निशाने पर है। ),महाराजा हरिसिंह के विद्वान पुत्र श्री कर्ण सिंह जी, खुद मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के वालिद और केंद्रीय नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री फारुक अब्दुल्ला । पूर्व गृहमंत्री लालकृष्ण आडवाणी । यहां तक कि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी;सीपीआई.एमद्ध के महासचिव प्रकाश करात ने भी अभिन्न अंग शब्द का प्रयोग किया है । और तो और भारत की संसद भी इस वाक्य को सैंकड़ों बार दोहरा चुकी है और वह भी तब जब संसद में लालबहादुर शास्त्री, पटेल आदि देशभक्त चुन कर आया करते थे । . आपने कहा कि आम नेता भारत के संविधान और भारतीय दंड संहिता में अंतर नहीं समझता है । मैं विनम्र निवेदन करूंगा कि ऊपर गिनाये गये सभी लोग विधि के अच्छे जानकार हैं, कोयी अंगूठा छाप अपराधी सांसद नहीं । . आपने कहा कि भारत का संविधान कश्मीर को अभिन्न अंग नहीं कहता है । . नीचे में फिर कुछ पंक्तियां डाल रहा हूं जो कि कश्मीर के संवैधानिक पक्ष को ही प्रस्तुत कर रही हैं । इसमें जम्मू कश्मीर के संविधान के अनुच्छेद 3 के साथ साथ कश्मीर संबन्धी भारत के संविधान संशोधन की भी जानकारी है । मैं मानता हूं कि मेरे द्वारा कही गयी सत्य बातें कड़वी होंती हैं । -------------------------------------------------------------------------------------- 1994 में भारतीय संसद के दोनों सदनों द्वारा जम्मू-कश्मीर पर पारित सर्वसम्मत प्रस्ताव को यहां स्मरण करना समीचीन होगा, जिसमें दृढ़तापूर्वक कहा गया है: . ”जम्मू एवं कश्मीर राज्य भारत का अभिन्न अंग रहा है, और रहेगा तथा शेष भारत से इसे अलग करने के लिए किसी भी प्रयासों का सभी आवश्यक साधनों से प्रतिरोध किया जाएगा।” . यही प्रस्ताव आगे कहता है: ”पाकिस्तान को भारत राज्य के जम्मू एवं कश्मीर का क्षेत्र खाली करना चाहिए जिसे उसने बलात हथिया रखा है।” . बहुतों को यह नहीं पता होगा कि धारा 370 के कारण जम्मू एवं कश्मीर राज्य के पृथक संविधान की धारा 3 इस तरह है: . राज्य का भारत संघ के साथ सम्बन्ध- जम्मू एवं कश्मीर भारत संघ का अभिन्न अंग है और रहेगा। . भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति ए.एस. आनन्द ने अपनी पुस्तक द कांस्टीटयूशन ऑफ जम्मू एण्ड कश्मीर में उपरोक्त भाग पर निम्न टिप्पणी की है। . 1951 में राज्य संविधान सभा आहूत की गई थी ताकि वह ”राज्य के जुड़ने के सम्बन्ध में अपने तर्कसंगत निष्कर्ष” दे सके। संयुक्त राष्ट्र संघ में कश्मीर सम्बन्धी विवाद पर ठहराव आ चुका था। राज्य के भविष्य के बारे में अनिश्चितता समाप्त करने के उद्देश्य से कश्मीर में असेम्बली ने पर्याप्त विचार-विमर्श के बाद 1954 में राज्य के भारत में विलय की पुष्टि की। . 1956 में, जब राज्य संविधान की ड्राफ्टिग को अंतिम रुप दिया जा रहा था, तक राज्य संविधान में राज्य के विलय को एक ‘स्थायी प्रावधान‘ मानने के सम्बन्ध में राज्य की अंतत: स्थिति को शामिल करना जरुरी समझा गया। यही वह विचार था जो संविधान के भाग 3 के रुप में अपनाया गया। . इस भाग में शब्द प्रयोग में लाए गए ”हैं-और रहेगा” । इससे साफ होता है कि राज्य के लोगों के मन में भारत के साथ जुड़ने के बारे में कभी कोई शक नहीं था। यह भाग मात्र उनकी इच्छा कि ”भारत संघ के अभिन्न अंग” बने रहने की पुष्टि भर है। . सन् १९५६ में भारत सरकार ने संविधान में सातवां संशोधन कर जम्मू-कश्मीर को अपना अभिन्न अंग बना लिया था। नेशनल कान्फ्रेंस की कुटिल मंशा इसे निरस्त कराने की है। इसके समाप्त होते ही राष्ट्रपति के सभी अध्यादेश, संवैधानिक संशोधन, संसद के अधिकार और सर्वोज्च न्यायालय का नियंत्रण स्वयमेव समाप्त हो जाएंगे। . कश्मीर के संविधान में भी कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताया गया है. इस सविधान की पुष्टि कशमीर विधासभा अपनी पहली बैठक में ही कर चुकी है. . कशमीर के तत्कालीन महाराजा हरि सिंह ने बिना शर्त इंस्ट्रूमेंट ऑफ़ ऐक्सेसन यानि सामिलन पत्र पर दस्तखत किये थे. उसकी माउनटबेटेन ने तत्काल पुष्टि करा दी थी. भारत की संसद कश्मीर को अभिन्न अंग बताते हुए और पाकिस्तान के कब्जे के कश्मीर के हिस्से को वापस लेने का प्रस्ताव १९५४ में और उसके बाद भी कर चुकी है. सन 1819 में महाराजा रंजीत सिंह ने अफगानी सेना को परास्त कर कश्मीर को एक बार पुनः भारतीय जीवनधारा में सम्मिलित किया। कालांतर में अंग्रेज शासन की समाप्ति के बाद तत्कालिन सभी रियासतों एवं रजवाड़ों के समक्ष भारत के साथ विलय का प्रस्ताव रखा गया। कश्मीर के तत्कालिन शासक महाराजा हरि सिंह ने 27 अक्टूबर 1947 को विलयपत्रक पर हस्ताक्षर करके जम्मू कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग घोषित किया। 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू हुआ। जिसके धारा 1 में जम्मू कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग और स्थायी इकाई घोषित किया गया। 6 फरवरी 1956 को जम्मू कश्मीर की संविधान सभा ने जम्मू कश्मीर का भारत के साथ विलय को पूर्ण सहमति दी। जम्म कश्मीर की संविधान के धारा 3 में लिखा है ‘‘जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और रहेगा’’। और धारा 4 के मुताबिक राज्य की सीमा के अंतर्गत वे सभी क्षेत्र आएंगे जो 15 अगस्त 1947 को जम्मू-कश्मीर राज्य के अंतर्गत थे। इसका तात्पर्य यही है कि पाकिस्तान के अनाधिकृत कब्जे में जो भूभाग है वह भारत का ही अंग है। ------------------------------------------------------------------------------------------------- The Constitution of Jammu and Kashmir, 1956 Legal Document No 140 . We, the people of the State of Jammu and Kashmir, having solemnly resolved, in pursuance of accession of this State to India which took place on the twenty-sixth day of October, 1947, to further define the existing relationship of the State with the Union of India as an integral part thereof, and to secure to ourselves. JUSTICE, social, economic and political; LIBERTY of thought, expression, belief, faith and worship; EQUALITY of status and of opportunity; and to promote among us all; FRATERNITY, assuring the dignity of the individual and the unity of the Nation; IN OUR CONSTITUENT ASSEMBLY This seventeenth day of November, 1956 do Hereby Adopt Enact and Give to ourselves this constitution. PART I PRELIMINARY 1. (1) this Constitution may be called the Constitution of Jammu and Kashmir. (2) This section and sections 2,3,4,5,6,7,8, and 158 shall come into force et once and the remaining provisions of this constitution shall come into force on the twenty-sixth day of January, 1957, which day is referred to in this Constitution as the commencement of this Constitution. 2. (I) In this Constitution, unless the context other-wise requires. (a) \"Constitution of India\" means the Constitu-tion of India as applicable in relation to this State. (b) \"existing law\" means any law, ordinance, order bye-law, rule notification; or regulation based, made or issued before the commence-ment of this Constitution by the Legislature or other competent authority or person hav-ing power to pass. make or issue such law, ordinance, order bye-law rule, notification or regulation; (c) \"Part\" means a part of this Constitution; (d) \"Schedule\" means a schedule to this Constitution; and (e) \"taxation\" includes the imposition of any tax or impost, whether general or local or special, and \"tax\" shall be construed accordingly. (2) Any reference in this Constitution to Acts or laws of the State Legislature shall be construed as in-cluding a reference to an Ordianance made by the Sadar-i-Riyasat. PART II THE STATE (3) The State of Jammu and Kashmir is and shall be an integral part of the Union of India. ---------------------------------------------------------------------------- आपके लेख की इन पंक्तियों से - (जो लोग को कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताते है.....वो भी जाने.अनजाने में अरुधंति और गिलानी के विचारों;या यूँ कहें कि कुत्सित विचारोंध्कुविचारों को ही हवा दे रहे हैं) किसी भी देशभक्त को बुरा लग सकता है क्योंकि आप उनकी तुलना देश तोड़ने वालों से कर रहे हैं । सादर आपका के एम मिश्र

के द्वारा: kmmishra kmmishra

परम आदार्णीय मिश्रा जी को संवोधित विंदुवार उत्तर- \"मेरे वाक्यांश पर सद्भावना पूर्वक मनन करें-----हम क्यों कहते हैं,कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है---------क्या शरीर का कोई अंग शरीर से भिन्न हो सकता है-----मेरी नज़र में ऐसा असंभव है------------हम संभावना पैदा कर देते हैं-----अंग के शरीर से भिन्न होने कि-----हम मान रहे हैं-----कोई अंग शरीर से भिन्न भी हो सकता है-----ये संभावना है,हम संशय पैदा कर रहे है-------------------शरीर का अंग है तो है------भिन्न या अभिन्न से क्या मतलव--------शरीर का अंग है-----तो शरीर से भिन्न हो ही नहीं सकता-------भिन्न करोगे तो न तो अंग रहेगा------और संभावना शरीर खो जाने कि भी हो सकती है\" \"मेरी दृष्टि में हमें कहना चाहिय------\"कश्मीर तो हमारा (हमारे देश का/भारत का) अंग है ही------------करांची तक हमारा दावा है------------हमें कश्मीर ही नहीं,कराची तक चाहिए\" प्रिय मिश्रा जी,हमें ये बताने की कृपा करें,कि \"भारत के संविधान\" में,किस अनुसूची में,किस अनुच्छेद के अंतर्गत \"कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग\" बताया गया है,कृपया संविधान में वर्णित मूल्य \"वाक्यांश सन्दर्भ\" से मै ही नहीं,और अन्य लोग भी लाफ उठा सकें. दूसरी बात आपके लेख पर हमारे द्वारा छदम टिप्पड़ी लिखना---------तो श्रीमान ये विचार आप सदा के लिए ,अपने मन-मस्तिष्क से निकाल दें--कि हमने नाम बदलकर आपके लेख पर टिप्पड़ी कि-------------------और याद रखें---------जब भी हमें टिप्पड़ी लिखना होगी.....छद्मीकरण द्वारा नहीं,वल्कि स्पष्ट होगी--------विल्कुल साफ़...................अगर किसी भय-या संकोच से टिप्पड़ी लिखने से तो अच्छा है----कि टिप्पड़ी ही न लिखी जाए. तीसरी बात ये-कि आपने कुछ वयोवृद्ध नेताओं,राष्ट्राध्यक्षों का संज्ञान देते हुए,उनके वयानों को प्रस्तुत किया है-----------जहां उन लोगों ने कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग कहा है---- मै मानता हूँ-----अक्सर ऐसा कहा जाता है-------------बड़े-बड़े बुद्धिजीवी कहते सुने गए हैं----------पर उनके ये बयान मात्र एक विचार जैसे हैं,न कि संसदीय शाव्दाबली ...........................हमारे देश के महान नेताओं के अनोखे भाषण और विचार जब-तब चर्चित भी रहे हैं-------------एक दशक पूर्व हमारे राष्ट्राध्यक्ष महोदय ने लाल किले कि प्राचीर से देश को संवोधित करते हुए कहाँ था-------------------कि \"हमारे देश के किसान ज्यादा से ज्यादा चीनी कि फसल उगायें\".........................एक बार उनके द्वारा उसी लाल किले कि प्राचीर से संवोधन में \" स्वतंत्रता दिवस\" को गड्तंत्र दिवस\" और फिर ठीक उसी तरह-----------\" गणतंत्र दिवस को उन्होंने स्वतंत्रता दिवस\" बताया था................................इसी प्रकार एक जनसभा रैली में उनके द्वारा \"धान को चावल का पेड़\" कहकर संवोधित किया था. हम बचपन से देखते और सुनते आ रहे थे,आप के साथ भी ऐसा ही हुआ होगा------------------दशकों तक पुरे देश के डाक्टर अपने प्रतीक के रूप में \" लाल रंग का प्लस\" चिन्ह/निशान प्रयोग करते रहे-----कुछ तो आज भी करते हैं------------बाद में पटा चला कि ये चिन्ह तो \"रेडक्रास संस्था\" का है,और डाक्टरों का चिन्ह एक \"क्रास जैसे प्रतीक पर सर्प लिपटे हुए\" बताया गया-----------पूरा देश क्या....लगभग संसार कि आधी जनसँख्या इस लाल प्लस को ही डाक्टरों का प्रतीक मानती रही..........किसी को कोई आपत्ति नहीं.............पर अब पटा चला कि सभी डाक्टर अपने प्रतीक के स्थान पर रेडक्रास के प्रतीक चिन्ह का प्रयोग कर रहे हैं------------------दशकों से प्रयोग कर रहे हैं-------------कुछ ने बाद में सुधार कर लिया---------कुछ आज भी रेड पलुस का प्रयोग कर रहे हैं............कौन रोक सकता है उन्हें.............नेता बोल रहे हैं कौन रोकेगा उन्हें------किसकी शामत आई है-------------किसकी बुद्धि भ्रष्ट हुई------------जो जानबूझकर जाए,बनैले सांड के आगे. एक नविन अध्ययन से पटा चला है कि-----------देश के आधे से अधिक नेताओं को \"भारत के संविधान\" और \"भारतीय दंड संहिता\" में अंतर नहीं पता,आपने सुना होगा,हमने भी सुना है----जब-तब कई नेताओं के भाषण में -----------\"भारत के संविधान में ये कानून .............\" \"भारत के संविधान कि धारा..............\" कश्मीर के सन्दर्भ में धारा-३७०.......\" तो किया ये माना जाए,कि नेता सब-कुछ सही बोलते हैं--------वो समाज ही समय कि कसौटी पर खरा उतरता है..........जो सत्य को स्वीकारता है...........कुछ लचीला पण अपनाता है..........अपनी आलोचनाओं पर भी सद्भावना पूर्वक विचार करता है............अपने में सुधार कि गुंजाइश रखता है............... दूसरी बात मेरे भाषा भाव का आप अनर्गल और पुर्भावास पूर्ण आशय लगा रहे हैं,मेरा तात्पर्य है,जब हम बताते हैं,किसी को अपने शरीर के विषय में- कि हाथ,पाँव,सर,छाती,पेट आदि सव शरीर के अंग हैं,इन्ही अंगों से मिलकर शरीर बनता है-----------------आपने कभी ये नहीं सुना होगा------------ये हाथ,पाँव,पेट आदि शरीर के अभिन्न अंग हैं,---------------- अर्थात जब शरीर के अंग हैं ही,.................तो अभिन्न जोड़ने का आशय क्या है................कहीं-न कहीं तब हमारी भाषा संशय पैदा करती है....................जब हम अभिन्न शव्द का प्रयोग करते हैं,तो सुनने वाले को ऐसा लगता है कि............... यहाँ कुछ छुपाने........दवाने का प्रय्यास हो रहा है............अर्थात ये अंग तो है.......जो भिन्न भी हो सकता है,.........हम एक दरार पैदा कर देते हैं----------अभिन्न अंग कहकर-----------इससे हम स्वीकार करते हैं कि----------अंग शरीर से भिन्न भी हो सकता है------------उसका अस्तित्व शरीर से अलग भी हो सकता है----------पर अभी हमने ऐसा जोड़ रखा है-----------------कि अलग भी किया जा सकता है कभी ----------------जबकि हम ये कहें कि शरीर का अमुक अंग है-----तव बात ज्यादा सार्थक होजायेगी----------संशय ख़त्म हो जायेगा--------स्पष्ट हो जाएगा-------कि अमुक अंग तो है,लेकिन शरीर के अस्तित्व के साथ-साथ,-----अलग करने कि चेष्टा करोगे------------तो ये अंग नहीं रहेगा---------इसमें प्राण नहीं बचेंगे------------ये मृत हो जायेगा--------साद जाएगा शरीर से अलग होते ही-------अंग तब तक है जब तक शरीर से जुदा है----------अलग होते ही मॉस का एक लोथड़ा बन जायेगा---अंग नहीं रहेगा. सबसे पहली बात तो ये है,कि श्री मिश्रा जी आपके कमेंट्स को अद्ययतन एवं सूक्षम विश्लेषण उपरान्त प्रथम द्रष्टय: प्रतीत होता कि,श्री मिश्रा जी के व्यक्तित्व में कहीं-न-कहीं प्रत्येक के प्रति संशय और संदेह का भाव है,दूसरी बात श्री मिश्रा जी,आप स्वम के व्यक्तित्व और ज्ञान को ही पूर्ण और प्रमाणिक मान रहे है. श्री मिश्रा जी,ऐसा प्रतीत होता है,कि आपके व्यक्तित्व में \"तानाशाही\" या यूँ कहें \"डिक्टेटरशिप\" कि भावना है,और आप अपनी आलोचना पसंद नहीं कर पा रहे हैं,एक छटपटाहट ,एक भ्रम जैसी स्थिति है आपके मस्तिष्क में,आपका व्यक्तित्व कहीं-न-कहीं \"मै\" कि भावना से ओतप्रोत है,अहंकार सा भरा है,आपके विचारों में............कुछ इसमें शीतलता-कोमलता-स्थिरता-एक साम्य-संतुलन कि संभावना पैदा करें ,अपने अन्दर.

के द्वारा:

वंदेमातरम सरजी । आपका लेख पढ़ कर बहुत ही खुशी हुयी। लेकिन आपने \"कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग\" कहने वालों को भी गिलानी और अरूंधती राय की श्रेणी में खड़ा कर दिया । मेरे लेख ‘कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है’ पर कूलबेबी ने आपत्तिजनक टिप्पणी की । उसके बाद मैंने उस छद्म नामी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया । अब आपका यह लेख लगता है उसी मोर्चे का जवाब है । आपकी जानकारी के लिये भारत सरकार और दूसरी विपक्षी पार्टियो के हाल के बयान (जिसमें कम्युनिस्ट भी शामिल हैं) रख रहा हूं । क्या मैं यह समझूं कि कूलबेबी के नाम से आप ही आपत्तिजनक टिप्पणियां कर रहे थे । ___________________________________________________________ 15 अगस्त 2010 इंडो एशियन न्यूज सर्विस नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 64 वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आज लगातार सातवीं बार लाल किले की प्राचीर से राष्ट्रध्वज फहराया। इस अवसर पर उन्होंने नक्सलवाद को आंतरिक सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा बताते हुए साफ किया, हिंसा का सहारा लेने वालों से कड़ाई से निपटा जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। ________________________________________________________________________ भोपाल ! भारतीय जनता पार्टी .भाजपा. की मध्यप्रदेश इकाई के अध्यक्ष और सांसद प्रभात झा ने कश्मीर मामले में अलगाववादियों के समर्थन में नक्सलियों द्वारा 30 सितम्बर को छह राज्यों में बंद के आह्वान पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए अफसोस जताया और कहा कि देश में पहली बार हुआ है जब माओवादियों ने कश्मीर के अलगाववादी एवं भारत विरोधी ताकतों को समर्थन किया है ! श्री झा की ओर से आज यहां जारी एक विज्ञप्ति में गहरी चिंता जताते हुए कहा गया है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है ! 30 Aug 2010 07:57:00 PM IST _____________________________________________________________ केंद्रीय नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री फारुक अब्दुल्ला ने सोमवार को कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा रहेगा। ____________________________________________________________ जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग भाजपा Posted On October - 27 - 2010 मंगलवार को गुडग़ांव में भाजपा नेता उपायुक्त कार्यालय के बाहर जम्मू-कश्मीर के भारत संघ में विलय दिवस के अवसर पर ज्ञापन देने जाते हुए। चित्र-हप्र गुडग़ांव, 26 अक्तूबर (हप्र)। जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और आज के दिन ही जम्मू कश्मीर ने भारत संघ में विलय किया था। यह याद दिलाने के लिए भाजपा ने आज राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भेजा है। ___________________________________________________________ कश्मीर भारत का अभिन्न अंग : कालरा Thursday, 28 Oct 2010 8:15:13 hrs IST सलूम्बर। कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, इसके टुकडे नहीं होने देने के लिए जनता को जागृत होना पडेगा। यह विचार विद्याभारती राजस्थान क्षेत्र के अध्यक्ष डॉ. मनोहरलाल कालरा ने व्यक्त किए। ____________________________________________________________ कश्मीर भारत का अभिन्न अंग -कर्णसिंह श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्बदुल्ला के बयान पर कश्मीर के अंतिम महाराजा हरिसिंह के पुत्र और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डा. कर्ण सिंह ने कहा है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। _____________________________________________________________ शनिवार, 04 सितम्बर 2010 17:01 कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। कृष्णा भारत के विदेशमंत्री ने यह बात दोहराई है कि जम्मू व कश्मीर, भारत का अभिन्न अंग है। एस.एम.कृष्णा ने कहा है कि हमें इस बात का विश्वास है कि चीन सरकार हमारी संवेदनशीलता का सम्मान करेगी। _____________________________________________________________ पाकिस्तान की हमेशा से कश्मीर पर लालची निगाहें रही हैं। जब भारत और पाकिस्तान का विभाजन हुआ उस वक़्त भी पाकिस्तान कश्मीर को अपने में शामिल करना चाहता था। लेकिन जम्मू- कश्मीर के राजा हरि सिंह भारत या पाकिस्तान दोनों में से किसी देश में शामिल होना नहीं चाहते थे। लेकिन पाकिस्तान ने कश्मीर पर हमला कर दिया। राजा हरि सिंह ने भारत से मदद मांगी और भारत ने अपना मानते हुए उनकी मदद की। बाद में समझौता हुआ कि जम्मू- कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा होगा। उसके बाद 5 दशकों से ज़्यादा का वक़्त गुज़र चुका है और एक बार फिर जम्मू- कश्मीर के सीएम ने अभिन्न अंग को लेकर कुछ सवाल उठाए हैं, लेकिन भारत के संविधान से लेकर भारत के बच्चा- बच्चा जानता है कि कश्मीर भारत का अभिन्न, अखंड और अविभाज्य हिस्सा है। _____________________________________________________________ उमर अब्दुल्ला का बयान अक्षम्य भारी भूल: आडवाणी नई दिल्ली, एजेंसी भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने जम्मू कश्मीर के विलय पर राज्य के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के विवादास्पद बयान की कड़ी आलोचना करते हुए रविवार को इसे एक अक्षम्य भारी भूल करार दिया। भाजपा नेता ने कहा कि वास्तविकता यह है कि हैदराबाद और जूनागढ़ समेत 500 से अधिक देशी रियासतें भारत के स्वतंत्रता के बाद उसके अभिन्न हिस्सा हो गये और उन्होंने जम्मू कश्मीर की तरह ही विलय पत्र पर हस्ताक्षर किया था। पूर्व भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि न केवल भाजपा ने बल्कि पंडित जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी से लेकर वर्तमान विदेश मंत्री एसएम कृष्णा समेत देश के प्रत्येक नेता ने जम्मू कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग माना है। भारतीय संसद ने भी इसे देश का अभिन्न अंग करार दिया है। _____________________________________________________________ नई दिल्ली, (जर्नलिस्ट टुडे नेटवर्क)... विदेश मंत्री एस. एम. कृष्णा ने कहा है कि पाकिस्तान लोकतंत्र व मानवाधिकार का पाठ भारत को न पढ़ाये। विदेश मंत्री ने पाकिस्तान को जम्मू- कश्मीर में राज्य प्रायोजित आतंकवाद बंद करने को भी कहा है।संयुक्त राष्ट्र की 65वीं महासभा में अपने संबोधन में कड़े शब्दों का इस्तेमाल करते हुए कृष्णा ने कहा कि जम्मू और कश्मीर, जो भारत का अभिन्न अंग है, पाकिस्तान प्रायोजित उग्रवाद और आतंकवाद के निशाने पर है। पाकिस्तान को अपना यह वचन निभाना चाहिए कि वह अपने नियंत्रण वाले भूभाग से भारत के खिलाफ निर्देशित आतंकवाद की इजाजत नहीं देगा। _____________________________________________________________ अरूणाचल भारत का अभिन्न अंग : करात (08:54:19 PM) 25, Oct, 2009, Sunday नई दिल्ली ! भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी(सीपीआई-एम) के महासचिव प्रकाश करात ने रविवार को अरूणाचल प्रदेश को भारत का अभिन्न अंग बताते हुए उम्मीद जताई कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और चीन के प्रधानमंत्री बेन जियाबाओ सीमा विवाद को सुलझा लेंगे।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

के द्वारा:

के द्वारा: jalal jalal

के द्वारा:

सेमा जी ..आप को देख कर इस मंच के वरिष्ठ ब्लोगर सचिन भाजी की याद ताज़ा हो आई ... जो की आजकल पांडवो से चौसर की बजी हारकर लंबे अज्ञातवास में चले गए है ... उनके ब्लॉग पर भी कमेन्ट पर जवाब का आप्शन नहीं था ... इस समस्या से निजात पाने का एक ही तरीका है की ... सुसाइड करके फिर से दुबारा जानम लिया जाए ... और जब तक यह समस्या बनी रहे तब तक फिर -२ से जानम लेते रहो ... खुशनसीबो को ही ऐसे अवसर मिला करते है .... गंभीर बाते तो बहुत ही हो गई है ... अब कुछ हलकी फुलकी भी :- एक एहसास,जैसे झोंका कोई हबा का,……………….मानो कोई फ़रिश्ता,आकर धीरे से छू गया…………….तू शौक…..तू ज़ौक……..तू महकशी………..तू दिल्लगी……तू ज़िन्दगी……तू महकदा…………तुम मेरा हर जवाब हो…. सेमा जी ...तुम मेरा हर जवाब हो…. की जगह क्या कुछ और नहीं होना चाहिए था ? क्या यह लाइन सही है ? वेसे सारी कविता अपने आप में अदभुत और अनूठी है .. बधाई

के द्वारा: rajkamal rajkamal

सेमा जी ..आप को देख कर इस मंच के वरिष्ठ ब्लोगर सचिन भाजी की याद ताज़ा हो आई ... जो की आजकल पांडवो से चौसर की बजी हारकर लंबे अज्ञातवास में चले गए है ... उनके ब्लॉग पर भी कमेन्ट पर जवाब का आप्शन नहीं था ... इस समस्या से निजात पाने का एक ही तरीका है की ... सुसाइड करके फिर से दुबारा जानम लिया जाए ... और जब तक यह समस्या बनी रहे तब तक फिर -२ से जानम लेते रहो ... खुशनसीबो को ही ऐसे अवसर मिला करते है .... गंभीर बाते तो बहुत ही हो गई है ... अब कुछ हलकी फुलकी भी :- एक एहसास,जैसे झोंका कोई हबा का,……………….मानो कोई फ़रिश्ता,आकर धीरे से छू गया…………….तू शौक…..तू ज़ौक……..तू महकशी………..तू दिल्लगी……तू ज़िन्दगी……तू महकदा…………तुम मेरा हर जवाब हो…. सेमा जी ...तुम मेरा हर जवाब हो…. की जगह क्या कुछ और नहीं होना चाहिए था ? क्या यह लाइन सही है ? वेसे साडी कविता अपने आप में अदभुत और अनूठी है .. बधाई

के द्वारा: rajkamal rajkamal

सेमा जी ...आपको देख कर मुझको हमारे सचिन भाजी की याद आ गई .... जो की आजकल पांडवो से चोसर की बाज़ी हारकर किसी अज्ञातवास में चले गए है .... उनके ब्लॉग पर कमेन्ट पे जवाब का आप्शन नहीं था .... तो इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए सुसाइड करके फिर से दुबारा जन्म लेना पड़ता है... तो जब तक यह समस्या बनी रहे ...नए पे नए जन्म लेते रहो .... किसी खुशनसीब को ही यह मौका मिलता है .... मेरी आदरणीय शाही जी से गुजारिश है की सेमा जी की तो पहले से ही नोकरी लगी हुई है ...अगर मेरे लिए कोई नोकरी निगाह में हो तो क्या मैं भी अपना बाओ डाटा भेज सकता हू ... गंभीर बाते तो बहुत हो गई... अब कुछ हलकी फुलकी .... एक एहसास,जैसे झोंका कोई हबा का,……………….मानो कोई फ़रिश्ता,आकर धीरे से छू गया…………….तू शौक…..तू ज़ौक……..तू महकशी………..तू दिल्लगी……तू ज़िन्दगी……तू महकदा…………तुम मेरा हर जवाब हो…. सेमा जी ...बहुत ही अच्छी मगर अपने में अनूठी कविता है ... किन्तु एक शंका भी है... तुम मेरा हर जवाब हो…. क्या यह लाइन यहाँ पर इसी रूप में फिट होती है ...या फिर कुछ और हो सकता था ....

के द्वारा: rajkamal rajkamal

शाही जी ,आप सभी लोगों की शंका समाधान हेतु,मेरा निजी परिचय प्रस्तुत है.... वैसे तो,प्रकृति ने मानव जैसी "अशरफुल-मख्लुकात" का सृजन,अपनी सबसे सुन्दर प्रतिकिर्ती के रूप में किया,जो स्रजनकर्ता के अनमोल कृति है,क्या स्त्री.......क्या पुरुष......क्या लड़की...क्या लड़का......बस हमने एक वर्गीकरण किया,सम्पूर्ण मानव जाती को दो बराबर हिस्सों में बाँट दिया......और संभवता स्रष्टा के प्रति मानव का ये सबसे बड़ा विश्वासघात है........ फिर भी,.....मै सायमा मलिक उस आधी जनसँख्या का प्रतिनिधित्व करते हुए स्वम को गौरवान्वित अनुभूत करती हूँ,जिसे नारी कहते हैं. मै सायमा मलिक (नारी) ,आयु २७ वर्ष,जाति- अराईन/ राइन (मलिक) धर्म इस्लाम शैक्षणिक योग्यता-बी.एस.सी.(बायो.) बी.एड.(स्पेशालाईज़ेशन इन एजुकेशनल कम्प्यूटिंग) ,एप्लाईड एम्.एड.,विशिष्ट बी.टी.सी...........एक सामाजिक कार्यकर्त्ता......एक जन सूचना अधिकार कार्यकर्त्ता........यु.एन.ओ. वालनटेयर,एवं कंटेंट रायटर

के द्वारा:

     परम आदार्णीय आर.एन. शाही जी को हमारा नमस्कार शाही जी,आपकी शंका का समाधान प्रस्तुत है,और आप एवं माननीय मंसूर जी के प्रति मेरे ह्रदय में एक अपूर्व मान एवं श्रद्धा है,कि लगता है,जाने कौन अनजाना सा रिश्ता....सा....रिश्ता...एक स्वर्गिक ....अपनत्व....ममत्व.....बात्सल्य...सा प्रखरित होता है,आपकी तिप्पधियों से........और जब आप मेरी किसी भूल और त्रुटी के संवंध में मुझे कुछ राय देतें हैं,तो ये मान और सम्मान और भी बड़ जाता है.......सचमुच हमारी भूलों....हमारी गलतियों .....को एक सच्चा शुभ चिन्तक ही रेखांकित कर सकता है,.......वरना इस भौतिकवादी आधुनिक कहे जाने वाले समाज में,इतनी फुर्सत किसे है,कि वो आपकी रचनाएं पड़े,आपकी गलतियां रेखांकित करे.......और आपको उनसे अवगत कराये....जबकि वो और आप एक अजनबी हों.....सचमुच आपके सौहार्दपूर्ण स्नेह के लिए हम ह्रदय से आभारी हैं....

के द्वारा:

अन्दरूनी भावनाओं का सैलाब सा बहता प्रतीत हुआ । बधाई सायमा जी । एक व्यक्तिगत बात, जो बहुत दिनों से कहना चाह रहा था, आज नहीं रोक पा रहा हूं । इसका समाधान आपही कर सकते/सकती हैं । कई ब्लागर अपनी प्रतिक्रियाओं में आपको लिखते समय पुरुष मान कर चलते हैं, और कुछ लोग स्त्री या कन्या । मैं स्त्री/कन्या मानने वालों में से रहा हूं । आपने दोनों की प्रतिक्रियाएं स्वीकार कीं, भले जवाब न दिया हो । परन्तु आपने किसीकी की भी शंका का समाधान करना उचित नहीं समझा, कि मैं ये नहीं वो हूं, कोई गलत न समझे । ये बात मुझे उचित नहीं प्रतीत होती है । रहस्यमय बन कर रहना कई शंकाओं को जन्म देता है । कृपया बुरा मत मानेंगे/मानेंगी । हो सके तो शंका का समाधान करने का प्रयास करेंगे/करेंगी । धन्यवाद ।

के द्वारा:

के द्वारा: roshni roshni

     जागरण जंक्शन के अद्यतन करने वाले,और ब्लागर्स एवं शुभचिंतकों के प्रति मै कि सायमा मलिक कृत घ्यता व्यक्त करते हुए,धन्यवाद देती हूँ,कि उन्होंने मेरे लेख (ब्लाग) पड़ने में अपना अमूल्य समय व्यय किया,और शुभचिंतकों ने मेरी भूल और कमियों को रेखांकित करते हुए मुझे अवगत भी कराय,ऐसा वास्तव में एक सच्चा शुभचिंतक ही कर सकता है,मै उन सबको पुन: टिप्पड़ियों के लिए साधुबाद देती हूँ,और भविष्य में ऐसी भूलों कि पुनरावृत्ति न हो,ऐसी चेष्टा करने का प्रयास करुँगी. और हाँ,मै अपने शुभचिंतकों कि इच्छानुरूप भविष्य में एक समय में एक लेख(ब्लाग) ही पब्लिश्ड करने कि भरसक चेष्टा भी करुँगी,पूर्व में मेरी वजह से आप लोगों को हुई दिक्कत के लिए क्षमा याची हूँ.

के द्वारा:

 मैंने हाल में दूसरी बार कुरान मजीद आद्योपांत खत्‍म की है। मुझे उसके दार्शनिक पक्ष में एक लाइन(आयत) भी ऐसी नहीं लगी जो गीता-रामायण की विरोधी हो। बल्कि पूरी तरह एक ही बातों -सिद्धांतों का उद्घोष करती हुई लगी। मैंने पाया कि पैगम्‍बर मोहम्‍मद साहब ने कोई नया धर्म नहीं चलाया, बल्कि पहले से चली आ रही धर्म की सही सच्‍ची धारा ,जिसे अज्ञानतावश लोगों ने बहुत विकृत व दूषित कर दिया था, को ही आगे बढाया। उन्‍हें शासन- साम्राज्‍य की न चाह थी, न अपेक्षा। वही किया जिसके के लिए ईश्‍वर ने उन्‍हें चुना था। कुरान राजा-रंक को,जन सामान्‍य को , लोक-परलोक (आखरत)  दोनों को संवारने के आसान सूत्र बताता है।गफलत में पडे लोगों को जगाता है, सचेत करता है। आलोचकों,अनुयाइयों दोनों को इस्‍लाम को सही संदर्भों में समझने, व्‍याख्‍यायित करने और पुर्नमूल्‍यांकन करने की जरूरत है।

के द्वारा:

के द्वारा:

मालिक सैमाजी, किया मैं पूछ सकता हूँ आप मेरे दुवारा किया गया कमेन्ट कियो नहीं छाप देते. मुसलमान होने के नाते आप को किसे चीज़ का डर ?.. मैं तो बस जानना चाह था की आज समाज की हर जयादातर बुराई के जड़ मैं सिर्फ और सिर्फ कियो कुरान को मानने वाले है ?. किर्पया जवाब दे. जय हिंद, वन्दे मातरम. dear raj jee,after the observation of your quote,i am sure,that you are so intelligancy and skills,but you have not makes clear your thought,you are not able to express,as you wants to say. now about come to your question,i am remebering a scene of film "mohabbate",in which Amitabh Bachan is standing at "Gurukul" and Shahrukh Khan is present to excuse- Shahrukh said to Amitabh- magar jahan se mai dekh raha hoon,wahan se ek baap apni beti ke kadmon me khara (from where i am standing,it seems,a father is stands under the feet of his daughter) ================================================================================= raj ji,it is depent to observer,to which angle he have seen,and how to percept he.perception makes a view about your thinking and ideas. if a obser be a "Hitler" then he percept,that the yahoodi is responsible for each every nigative approach,dirty work,and poorty,he thoughts in the day light this and he seens dreams about these yahoodi's. if an obserber is Americans- then he percept,that indian intelligency and youths are holds a lot of chance of employement's,and future american youth can be go backward. and an american's can be think- that all the petrolium mines will be safe,when these was under the custody of america,and america have maturnal owners of all natural resources in ech every country. and an emricans can be thinks- all the petrolium resources are under the muslims ownership,its not right. so it is your opinion,its your thought,but it is not prooved by evidance. and i am asking you

के द्वारा:

के द्वारा:

बहुत अच्छे जनाब,, शायद मनोज मयंक की नफरत भरी बुध्धि कुछ खुले, वैसे इन जैसे लोगो में सुधार होना मुश्किल ही होता है, यह लोग सिर्फ और सिर्फ नफरत फैलाना चाहते है और देश के असली दुश्मन यही लोग है,, मैंने अपनी प्रतिक्रिया में कहा था की कुरान में हिन्दू शब्द का प्रयोग है ही नहीं,, इस के अलावा मनोज मायक जैसे ४ /५ लोग और है जो अपने कमेंट्स से इस आग को हवा दे रहे है ,, कोई मुसलमानों को ३०% बता रहा है , कोई हज़ारो यादवो के मारे जाने की खबर दे रहा है , कोई कह रहा है की एक मोलवी का नाम बताओ जिसने आतंकवाद के खिलाफ फतवा दिया हो ,, अरे भाई इन्टरनेट है खुद ही चेक कर लो,, कितना झूठ लिखोगे ,, जनता बेवकूफ नहीं है ... सच तो यह है की इस्लाम का भारत से एक ख़ास रिश्ता रहा है जो मैंने अपने लेख \"इस्लाम का भारत से रिश्ता \" में लिखा है.. मलिक जी आप को शत शत नमन राशिद http://rashid.jagranjunction.com

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:




latest from jagran